andaaz e bayaaN

A small collection of my poetry. The latest remains on the top! while going from top to bottom, you will find older creations. Please feel free to post your comments in the guest book.

अन्दाज़-ए-बयाँ

60

(February, 2014)

jo dar haqeeqat tere hee dil ke Gareeb-khaane kaa mezbaaN hai,  
aur ek mehmaan jaan kar too, usee kee aamad kaa muntazar hai?

nazaaraa jisko zamaane bhar kee nigaaheN kab se taras rahee haiN,
uThaa liyaa jis ne band aaNkhoN se lutf uskaa, woh deedawar hai!


59

(December, 2014)

 वो नज़र की हद से परे हुआ तो तहों में दिल की समा गया,

तो बताओ कैसे यक़ीं करूँ कि वो दूर मुझसे चला गया?

वो तो जाते-जाते भी काफिले की डगर को आसां बना गया,
किसी ख़ैरख़्वाह के हाथों में वो मशाल इसकी थमा गया! 

वही पहले जैसा ही नूर है मेरी रहगुज़ार ए हयात में,
वो बुझा तो बुझने से पहले एक नया चराग़ जला गया!

ये जुदाई कैसी जुदाई है? न तो आँख नम, न ही कोई ग़म,
तुझे जा के अब मिली राहतें, ये  ख़याल ग़म को मिटा गया!

तेरी परवरिश गुल-ए -मार्फ़त को हर एक सिम्त खिला गयी,
तूने बाग़बान-ए-जहान से  जो किया था वादा, निभा गया!

तेरी बेशुमार मुहब्बतों का बता मैं हक़ क्या अदा करूँ?
मेरे ज़ेहन-ओ-दिल में तू अनकहा सा सवाल छोड़ चला गया!


woh nazar kee had se pare huaa to tahoN meN dil kee samaa gayaa,
to bataaoN kaise yaqeeN karuN ke woh door mujhse chalaa gayaa?

woh to jaate jaate bhee qaafile kee Dagar ko aasaaN banaa gayaa,
kisee khairkhwaah ke haath meN woh mashaal iskee thamaa gayaa!

wahee pehle jaisaa hee noor hai meree rahguzaar-e-hayaat meN, 
woh bujhaa to bujhne se pehle ek nayaa chiraaGh jalaa gayaa! 

yeh judaayee kaisee judaayee hai, nah to aaNkh nam, nah hee koee gham,
tujhe jaa ke ab milee raahateN, ye khayaal gham ko miTaa gayaa! 

teree parvarish gul-e-muaarfat ko har ek simt khilaa gayee,
toone baaGhbaan-e-jahaan jo kiyaa thaa vaadaa, nibhaa gayaa!

teree beshumaar muhabbtaoN kaa  bataa maiN haq kyaa adaa karuN?
mere zehn-o-dil meN tuu ankahaa saa sawaal chhoR chalaa gayaa!


58

(September, 2011)

 

हर ग़ड़ी दिल में मचलता हुआ अरमाँ है यही,

"ये जो सूरत है तेरी, सूरत-ए-जानाँ है यही!" - तरही मिसरा

 

इस फ़क़ीराना तबीयत को तसव्वुर भी तेरा,

हिज्र में वस्ल है, सहरा में गुलिस्ताँ है यही!

 

तेरी चौखट पे तेरा खाना-बदोश ऐसा रुका,

जैसे अब दैरो हरम, काबा-ओ-ईमाँ है यही!

 

जज़्बा-ए-इश्क़, ज़बाँ-बन्दी, तड़प, ज़ब्त-ए-अलम!

तेरी जन्नत के तलबगार का सामाँ है यही!

 

आदमी, आदमी, बस आदमी! ता-हद्‍द-ए-नज़र?

कौन है ऐसा कि जिसको कहें, "इन्साँ है यही!"?

 

दुनिया आईना है और इसके सिवा कुछ भी नहीं,

है जो आईने में मैला, वो गिरेबाँ है यही!

 

सुन के दुश्‍वारियाँ, बहलाता था औरों को जो "धीर"!

अब के बन आई है खुद पे तो परेशाँ है यही!

 

 

 

har ghaDee dil meN machaltaa huaa armaaN hai yehee,

"ye jo soorat hai teree, soorat e jaanaaN hai yehee!" - tarHee misra

 

is faqeeraanaa tabeeyat ko tasaw'wur bhee tiraa,

hij'r meN vas'l hai, sehraa meN gulistaaN hai yehee!

 

teree chaukhaT pe teraa khan'ah-badosh aisaa rukaa,

jaise ab dair o haram, kaabaa o iimaaN hai yehee!

 

jaz'bah e ishq, zabaaN-bandee, taDap, zab't e alam!

teree jan'nat ke talabgaar kaa saamaaN hai yehee!

 

aadamee, aadamee, bas aadamee! taa-had'd e nazar?

kaun hai aisaa ki jis ko kaheN, "insaaN hai yehee!"?

 

duniya aayeenaa hai aur iske sivaa kuchh bhee naheeN,

hai jo aayeene meN mailaa, woh girebaaN hai yehee!

 

sun ke dushwaariyaaN, bahlaataa thaa auroN ko jo "dheer"!

ab ke ban aayee hai khud pe to pareshaaN hai yehee!

 

 

 


 

57

(February, 2011)

 

तेरा इक मोड़ तक ही साथ देगी इल्मियत,

वहाँ से आगे तेरा रहनुमा है दिल फ़क़त!

 

अरे नादाँ! उसे रंगीनियों में खोज मत,

लिबास-ए-सादगी पहने हुए है अस्लियत!

 

मुहब्बत खेल बच्चों का नहीं! लेकिन मियाँ!

बहुत लाज़िम है इसमें बच्चों सी मासुमियत!

 

ज़रा सी बात का ऐसा बुरा माना कोई,

वो दिन और आज का दिन है! खबर आई खत!

 

इलाही! क्या तेरे दिल में था, जब तूने किया,

मेरी तक़दीर के सफ़्हे पे अपना दस्तखत!

 

कतर कर पर किसी ने खोल रक्खा हों क़फ़स,

खुशी कैसे चिढ़ाती है मुझे? बस पूछ मत!

 

 

 

tiraa ik mo.D tak hee saath degee ilmiyat,

wahaaN se aage teraa rahnumaa hai dil faqat!

 

are naadaaN! use ranginiyoN meN khoj mat,

libaas e saadagee pehne hue hai asliyat!

 

muhabbat khel bachchoN kaa naheeN! lekin miyaaN!

bahut laazim hai ismeN bachchoN see maasumiyat!

 

zaraa see baat kaa aisaa buraa maanaa koee,

wo din aur aaj kaa din hai! khabar aayee nah khat!

 

ilaahee! kyaa tire dil meN thaa, jab toone kiyaa,

miree taqdeer ke saf'he pe apnaa dast'khat!

 

katar kar par kisee ne khol rakkhaa hoN qafas,

khushee kaise chiDhaatee hai mujhe? bas poochh mat!

 

 

 

 


 

56

(December, 2010)

 

फ़ुटकर शेर

 

"अच्छा है दिल से दूर रहें पासबान-ए-अक़्ल",

ये क्या कि दिल के होठों पे अल्फ़ाज़ ज़ेह्‍के! - "धीर"

 

अच्छा है दिल के साथ रहे पासबान-ए-अक़्ल,

लेकिन कभी कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे! - "इक़बाल"

 

* क्यों अपनी हसरतों में ही उलझा है आदमी?

उलझी है मकड़ियाँ कभी अपने ही जाल में?

 

 

 

* "achchhaa hai dil se door raheN paasbaan e aql",

ye kyaa ki dil ke hoThoN pe alfaaz zeh'n ke!

 

original couplet from Iqbal was,

achchhaa hai dil ke saath rahe paasbaan e aql,

lekin kabhii kabhii ise tanhaa bhee chhoR de!

 

* kyoN apnee hasratoN meN hee uljhaa hai aadamee?

uljhee hai makDiyaaN kabhee apnehee jaal meN?

 


 

55

(September, 2010)

 

मेरे बाग़-ए-दिल में जो खार हैं, तेरी रहमतें हैं, सितम नहीं!

"जिसे तेरे ग़म से हो वास्ता, वो खिज़ाँ बहार से कम नहीं!" - शकील बदायुनी

 

वो जो मज़हबों ने दिखायी थी, रखा मैने उस पे क़दम नहीं,

मैं हूँ राहगीर-ए-मक़ाम-ए-दिल, मेरी राह दैरो हरम नहीं!

 

ये हर इक जनम नया पैरहन, कभी इस बदन, कभी उस बदन!

मुझे अगली बार भेजियो, "नहीं इसके बाद जनम नहीं!"

 

तो रंज-ओ-ग़म का असीर है, मसर्रतों से अमीर है,

वो जो खुद से हो गया आशना, उसे फ़िक्र-ए-इशरत-ओ-ग़म नहीं!

 

ज़रा बाज़ आ! वो ही नेमतें, कहीं अश्क अश्क रुला दे,

जिन्हें तूने ज़ाया किया सदा, तेरे वास्ते जो अहम नहीं!

 

 

 

mire baagh e dil meN jo khaar haiN, tiree rahmateN haiN, sitam naheeN!

"jise tere gham se ho waasitah, woh khizaaN bahaar se kam naheeN!" - Shakeel Badayuni

 

woh jo mazhaboN ne dikhayee thee, rakhaa maine us pe qadam naheeN,

maiN huN raahgeer e maqaam e dil, miree raah dair o haram naheeN!

 

yeh har ik janam nayaa pairhan, kabhee is badan, kabhee us badan!

mujhe aglii baar nah bhejiyo, "naheeN iske baad janam naheeN!"

 

nah to ranj o gham kaa aseer hai, nah masar'ratoN se ameer hai,

woh jo khud se ho gayaa aashanaa, use fikr e ishrat o gham naheeN!

 

zaraa baaz aa! woh hee naimateN, kaheeN ashk ashk rulaa na de,

jinheN toone zaa'e kiyaa sadaa, tire waasite jo aham naheeN!

 

 


 

54

(July, 2010)

 

दिल की नज़र से तुझ को, दिल ही में ढूंढता हूँ,

"हर राह से गुज़र कर, दिल की तरफ़ चला हूँ!" - फ़ानी बदायुनी

 

तब्दीलियों को पहले, मैं खुद में ला रहा हूँ,

इन्सान बन रहा हूँ, इन्सान चाहता हूँ!

 

इस आस में कि अब के, चाहा वो गुलसितां हों,

मैं खुद ही बीज बन कर, मिट्टी से जा मिला हूँ!

 

माज़ी के तजरुबे की, छैनी से काम लेकर,

मैं आने वाले कल की, मूरत तराशता हूँ!

 

हर शख्स गाहे गाहे, अपना सा लग रहा है,

शायद मैं बन्दगी के, मानी समझ गया हूँ!

 

मालिक तेरा करम है, रहबर है तूने भेजा,

मैं सच्चे दिल से उसके, क़दमों पे चल रहा हूँ!

 

 


dil kee nazar se tujh ko, dil hee meN DhoonDhtaa huN,

"har raah se guzar kar, dil kee taraf chalaa huN!" - Fani Badayuni

 

tabdilyoN ko pehle, maiN khud meN laa rahaa huN,

insaan ban rahaa huN, insaan chaahtaa huN!

 

is aas meN ki ab ke, chaahaa wo gulsitaaN hoN,

maiN khud hee beej ban kar, miTTee se jaa milaa huN!

 

maazee ke tajrubeh kee, chhainee se kaam lekar,

maiN aane waale kal kee, moorat taraashtaa huN!

 

har shakhs gaahe gaahe, apnaa saa lag rahaa hai,

shaayad maiN bandagee ke, maanah samajh gayaa huN!

 

maalik tiraa karam hai, rahbar hai toone bhejaa,

maiN sachche dil se uske, qadamoN pe chal rahaa huN!

 


 

 

53

(March, 2010)

 

फूलों में वो खुशबू है कलियों में वो रानाई,

चमन में बाग़बाँ अबके, बहार आई तो क्या आई!

 

तमाशे है वो ही सारे, वो ही सारे तमाशाई!

भला इसके सिवा दुनिया किसी को दे ही क्या पाई?

 

हुआ मैला मेरा मन, जब किसी ने ठेस पहूंचायी!

मगर धुल भी गया जब याद आई उसकी अच्छाई!

 

मुझे डर है, उसे पा कर खो जाये तड़प मेरी!

अभी वो दूर है मुझ से, अभी मैं हूँ तमन्‍नाई!

 

बस अपनी आरज़ू कहना, बस अपना दुखड़ा रो लेना?

इलाही! तेरे बन्दों को सजदे की समझ आई!

 

 

 

nah phooloN meN woh khushboo hai nah kaliyoN meN woh raanaayee,

chaman meN baaGbaaN abke, bahaar aayee to kyaa aayee!

 

tamaashe hai woh hee saare, woh hee saare  tamaashaayee!

bhalaa iske sivaa duniyaa kisee ko de hee kyaa paayee?

 

huaa mailaa miraa man, jab kisee ne Thes pohoNchaayee!

magar dhul bhee gayaa jab yaad aayee uskee achchhaayee!

 

mujhe Dar hai, use paa kar nah kho jaaye taDap meree!

abhee woh door hai mujh se, abhee maiN huN tamannaayee!

 

bas apnee aarazoo kahnaa, bas apnaa dukhRa ro lenaa?

ilaahee! tere bandoN ko nah sajde kee samajh aayee!

 


 

52

(December, 2009)

 

इसी हैरत में हूं अब कौनसी, तदबीर अपनाऊँ!

उसे तहरीर करने को कहां से लफ़्ज़ मैं लाऊँ?

 

फ़रिश्ता है इन्साँ है, क़ुदरत का करिश्मा है?

मुहब्बत अक्स है जिसका, मुहब्बत ही सरापा है!

 

बशर के क़ाफ़िले को मन्ज़िल-ओ-मक़्सद दिखाने को,

वो आया है खुदा की ज़ात से पर्दा उठाने को!

 

वो ही है रहनुमा उस रह-गुज़र पर, जिसकी दिल मन्ज़िल,

जहाँ पर इब्तिदा भी दिल और उस पर इन्तिहा भी दिल!

 

उसी पर है यक़ीं मुझ को, छोड़ेगा वो मेरा हाथ!

मक़ाम-ए-आखिरी तक इक वो ही देता रहेगा साथ,

 

करम उसका जो हों जायें, जहाँ दोनों सँवर जायें,

क़ज़ा और ज़िन्दगी के सिलसिले से ही उबर जायें!

 

मन्दिर में, मस्जिद में, सहरा में, दरिया में,

खुदा मिलता नहीं बाहर, खुदा है दिल की दुनिया में,

 

बशर का दिल अगर हों तो ठिकाना हों मुहब्बत का,

खुदा के आशियाने में भला क्या काम नफ़रत का?

 

यही पैग़ाम देने को पयम्बर बन के आया है,

फ़रिशता भेज कर क़ुदरत ने जग पर रह्‍खाया है!

 

दिया तक़दीर ने मौक़ा तो मौक़े की नज़ाक़त जान!

बिना मुर्शिद! कहां अल्लाह? कैसा इल्म? कैसा ज्ञान?

 

 

 

(A Nazm in honour of my revered spiritual master Shree Parthsarthi Rajgopalachari ji)

 

isee hairat meN huN ab kaunsee, tadbeer apnaauN!
use tehreer karne ko kahaaN se lafz maiN laauN?

 

farishtah hai yah insaaN hai, yah qudrat ka karishmaa hai?
muhabbat aks hai jiskaa, muhabbat hee saraapaa hai!
 
bashar ke qaafile ko manzil o maqsad dikhaane ko,
woh aayaa hai khudaa kee zaat se pardah uThaane ko!
 
woh hee hai rahnumaa us rah-guzar par, jiskee dil manzil,
jahaaN par ibtidaa bhee dil aur us par intehaa bhee dil!
 
usee par hai yaqeeN mujh ko, nah chhoRegaa woh meraa haath!
maqaam e aakhirii tak ik woh hee detaa rahegaa saath,
 
karam uskaa jo hoN jaayeiN, jahaaN donoN saNwar jaayeiN,
qazaa aur zindagee ke silsile se hee ubar jaayeiN!
 
nah mandir meN, nah masjid meN, nah sehraa meN, nah dariyaa meN,
khudaa miltaa naheeN baahar, khudaa hai dil kee dunyaa meN,
 
bashar kaa dil agar hoN to Thikaanah hoN muhabbat kaa,
khudaa ke aashiyaane meN bhalaa kyaa kaam nafrat kaa?
 
yahee paigaam dene ko payambar ban ke aayaa hai,
farishatah bhej kar qudrat ne jag par rah'm khaayaa hai!
 
diyaa taqdeer ne mauqaa to mauqe kee nazaakat jaan!
binaa murshad! kahaaN allaah? kaisaa ilm? kaisaa gyaan?

 


 

 

51

(Ocetober, 2009)

 

आँख नश्तर है, ज़बाँ शमशीर है!

दिलदही की वाह! क्या तदबीर है!

 

"एक सूरत! एक ही तस्वीर है!"  - बहादुर शाह "ज़फ़र"

मुझ को मेरी हम-नफ़स ही "हीर" है,

 

एक मेरी आँख ही लगती नहीं,

और वो सोयी, मेरी तक़दीर है!

 

देख कर जिसको लरज़ जाता हूँ मैं,

ज़िन्दग़ी उस ख्वाब की ताबीर है!

 

डर मुझे क्यों हों क़यामत का भला?

हर क़यामत बायस-ए-तामीर है!

 

सितम-गर! मुझ को तुझ से क्या गिला?

मुझ पे जो गुज़री, मेरी तक़दीर है!

 

क्यों हो दिलचस्प सर-ता-पा भला?

ज़िन्दगी! आखिर तेरी तहरीर है!

 

जिस्म-ओ-जाँ पर नाज़ क्यों इतना मियाँ?

अपना क्या है! खाक की जागीर है!

 

कैसी हसरत? "धीर" कैसी आरज़ू?

आप ही पहनी हुई ज़न्जीर है!

 

 


aaNkh nishtar hai, zabaaN shamsheer hai!
dil-dahee kee waah! kyaa tadbeer hai!

 

"ek soorat! ek hee tasweer hai!"  - Bahadur Shah "Zafar"
mujh ko meree ham-nafas hee "Heer" hai!

 

ek meree aaNkh hee lagtee naheeN,
aur woh soyee! miree taqdeer hai!

 

dekh kar jisko laraz jaataa huN maiN,
zindagee us khwaab kee taabeer hai!

 

Dar mujhe kyoN hoN qiyaamat kaa bhalaa?
har qiyaamat baa'is e taameer hai!

 

ai sitam-gar! mujh ko tujh se kyaa gilaa?
mujh pe jo guzree, miree taqdeer hai!

 

kyoN nah ho dilchasp sar-taa-paa bhalaa?
zindagee! aaKhir tiree teHreer hai!

 

jism o jaaN par naaz kyoN itnaa miyaaN!
apnaa kyaa hai! khaak kee jaageer hai!

 

kaisee hasrat? "Dheer" kaisee aarazoo? 
aap hee pehnee huee zanjeer hai!

 


 

 

50

(September, 2009)

 

दिया जब ओखली में सर तो घबराना नहीं होता!

रह-ए-उल्फ़त पे धर के पावँ, पछताना नहीं होता!

 

बता तू ही! दिल-ए-बेताब को समझाय़ें किस सूरत?

रहें हम मुन्तज़िर कब तक? तेरा आना नहीं होता!

 

हुआ जब से यक़ीं मुझ को कि तू खाना-ए-दिल में है,

मेरा उस रोज़ से दैर-ओ-हरम जाना नहीं होता!

 

मिसालें क्रष्ण-राधा की तुम ही देते नहीं थकते,

तुम्ही से उनके नक़्श-ए-पा पे चल पाना नहीं होता!

 

जहां खामोशियाँ तूफ़ान की दस्तक से टूटी हों,

वहाँ गलियों में रातों को भी वीराना नहीं होता!

 

अगर तू ध्यान देता नुक्‍ताचीं दुनिया की बातों पर

तो "धीर"! अपने ही ऐबों से तू बेग़ाना नहीं होता!

 

 


diyaa jab okhalee meN sar to ghabraanaa naheeN hotaa!
rah e ulfat pe dhar ke paaoN, pachhtaanaa naheeN hotaa!

 

bataa too hee dil-e-betaab ko samjhaaYeN kis Soorat?
raheN ham muntaz^ir kab tak? tiraa aanaa naheeN hotaa!

 

huaa jab se yaqeeN mujh ko keh tuu khaanah e dil meN hai, 
miraa us roz se dair o haram jaanaa naheeN hotaa!

 

misaaleN krishna-raadhaa kee tum hee dete naheeN thakte,
tumhee se unke naqsh e paa pe chal paanaa naheeN hotaa!

 

jahaaN khaamoshiyaaN toofaan kee dastak se TooTee hoN,
wahaaN galiyoN meN raatoN ko bhee veeraanaa naheeN hotaa!

 

agar too dhyaan detaa nuktah-cheeN dunyaa kee baatoN par
to :Dheer:! apne hee a'iboN se too begaanah naheeN hotaa!

 


 

49

(April, 2009)

 

अपनी नफ़रत को भी तामीर का सामान बना,

इस की आतिश में मगर दिल का शमसान बना!

 

इश्क़ पहले तो मेरे कैफ़ का सामान बना!

फिर तो आफ़त की तरह जान पे ही आन बना!

 

काम इन्साँ के करें, उसको फ़रिश्ता बुला!

इस से बेहतर है कि खुद आप को इन्सान बना!

 

दिल के हालात खुदा जाने दिल ही जाने,

गर किसी और ने जाना भी तो अन्जान बना!

 

मैं हिक़ायात-ए-ग़म-ए-ज़ीस्त जो लिखने बैठा,

शेर दर शेर हुए, चुटकी में दीवान बना!

 

इस तरफ़ है उम्मीद और दूसरी जानिब तक़दीर,

दिल भी कमबख्त किसी जंग का मैदान बना!

 

मैं तो खुश्बू का पुजारी हूँ! चमन वालों, सुनो!

क़ैद कर ले जो महक, ऐसा ज़िन्दान बना!

 

हम तो समझे थे कि अनमोल हुआ करता है दिल,

मोल आंका तो फ़क़त यार की मुस्कान बना!

 

जिस को दुनिया ने फ़क़त वक़्त की बरबादी कहा,

वो हुनर, वो ही जुनूँ "धीर" की पहचान बना!

 

 


apnee nafrat ko bhee taameer kaa saamaan banaa
is kee aatish meN magar dil kaa nah shamsaan banaa

ishq pehle to mire kaif kaa saamaan banaa!
phir to aafat kee tarah jaan pe hee aan banaa!

kaam insaaN ke kare usko farishtaa nah bulaa!
is se behtar hai keh khud aap ko insaan banaa!

dil ke haalaat khudaa jaane yaa dil hee jaane,
gar kisee aur ne jaanaa bhee to anjaan banaa!

maiN hikaayaat e gham e zeest jo likhne baiThaa,
sher dar sher hue, chuTkee meN deewaan banaa!

is taraf hai umeed aur doosaree jaanib taqdeer,
dil bhee kambakht kisee jang kaa maidaan banaa!

maiN to khushboo kaa pujaaree huN!, chaman waaloN suno!
qaid kar le jo mehak, aisaa nah zindaan banaa!

ham to samjhe the keh anmol huaa kartaa hai dil,
mol aaNkaa to faqat yaar kee muskaan banaa!

jis ko dunyaa ne faqat waqt kee barbaadee kahaa,
woh hunar aur woh junooN 'dheer' kee pehchaan banaa!


 

48

(April, 2009)

 

ये कौन उड़ा गया खबर कि मौसम-ए-बहार है?

यहाँ तो दिल उजाड़ है, जिगर भी तार-तार है!

 

फ़रेब और झूठ का छपा इक इश्तेहार है,

"जो हम से काम ले वो रातों-रात मालदार है!"

 

शराब-ए-कैफ़ कब मिली है मयकदे में ज़ीस्त के,

यहाँ है जो भी, नश्शा-ए-अलम का वो शिकार है!

 

ये हिचकियाँ हैं बेसबब कोई वज्‍ह-ए-खास है,

"मेरे लिये भी क्या कोई उदास, बेक़रार है!"  - "शह्‍र्यार"

 

तमाम नफ़ा आप से, ज़ियां बदौलत-ए-खुदा?

कोई नहीं जो अपने ही किये पे शर्मसार है!

 

जो ज़िन्दगी की दौड़ में कभी भूले राम-नाम

हयात के भँवर में एक उसी का बेड़ा पार है!

 

इतनी एह्तियात-ए-गुफ़्तगू बरत कि यूँ लगे,

पुराने राब्ते पे "धीर", वक़्त का ग़ुबार है!

 

 

 

yeh kaun uRaa gayaa khabar keh mausam e bahaar hai?
yahaaN to dil ujaaR hai, jigar bhee taar taar hai!
 
fareb aur jhooTh kaa chhapaa ik ishtehaar hai!
"jo ham se kaam le woh raatoN-raat maal-daar hai!"
 
sharaab e kaif kab milee hai maikadeh meN zeest ke,
yahaaN hai jo bhee, nashshaa e alam kaa woh shikaar hai!
 
yeh hichkiyaaN haiN besabab yah koee waj'h khaas hai,
"mire liye bhi kyaa koee udaas, beqaraar hai!"  - shehryaar

tamaam naf'ah aap se, ziyaaN badaulat e khudaa?
koee naheeN jo apne hee kiye pe sharm-saar hai!
 
jo zindagee kee dauR meN kabhee nah bhoole Ram-naam
hayaat ke bhaNwar meN ek usee kaa beRaa paar hai!
 
nah itnee ihtiyaat e guftgoo barat keh yuN lage,
puraane raabateh pe "dheer", waqt kaa ghubaar hai!


 

47

(February, 2009)

 

वो जो चाँद तारों के ख्वाब को भी सिरहाने छोड़ सका नहीं,

उसे खाक चैन नसीब हो, जो हक़ीक़तों मे जिया नहीं!

 

तुझे ये समझ के भुला दिया कि मेरे लिये तु बना नहीं,

"किसी और ही की पुकार है, मेरी ज़िन्दगी की सदा नहीं!" - जिगर मुरदाबदी

 

बता आईने! तुझे किसलिये मेरी शक़्ल पर तरस गया?

मेरा आज मेरे अतीत से, किसी हाल में भी बुरा नहीं!

 

मैं फ़रेब-ए-ज़ेह्‍में हाल-ए-दिल से ग़ुरेज़ कर के ये कह गया,

"किसी और ही की पुकार है,मेरी ज़िन्दगी की सदा नहीं!"

 

तेरी इक ही बिन्दिया कमाल की, लगे मुझ को सोलह सिन्गार सी,

कहीं जिस्म सोने से लद गये मगर हुस्न तुझ सा खिला नहीं!

 

कहीं जेब अपनी टटोल कर कोई हसरतों को दबा गया!

कहीं हाथ जिस पे भी रख दिया, वो मजाल है कि मिला नहीं!

 

मियाँ! जितना चाहे जतन करो, वही बेतुकी सी ग़ज़ल कहो!

जिसे "धीर" कहते हैं शायरी, वो तुम्हारे बस की बला नहीं!

 

 


woh jo chaand taaroN ke khwaab ko bhee sirhaane chhoR sakaa naheeN,
use khaak chain naseeb ho, jo haqeeqatoN me jiyaa naheeN!

tujhe yeh samajh ke bhulaa diyaa keh mire liye tu banaa naheeN,
"kisee aur hee kee pukaar hai, miree zindagee kee sadaa naheeN!" - Jigar moradabadi

bataa aayeene! tujhe kisliye meri shaql par taras aa gayaa?
miraa aaj mere ateet se, kisee haal meN bhee buraa naheeN!

maiN fareb e zehn meiN Haal e dil se gurez kar ke yeh keh gayaa,
"kisee aur hee kee pukaar hai, miree zindagee kee sadaa naheeN!"

tiree ik hee bindyaa kamaal kee, lage mujh ko solah singaar see,
kaheeN jism sone se lad gaye magar husn tujh saa khilaa naheeN!

kaheeN jeb apnee TaTol kar koee hasratoN ko dabaa gayaa!
kaheeN haath jis pe bhee rakh diyaa, woh majaal hai keh milaa naheeN!

miyaaN! jitnaa chaahe jatan karo,wahee betukee see ghazal kaho!
jise "dheer" kahte haiN shaa'iree,woh tumhaare bas kee balaa naheeN!


 

46

(February, 2009)

 

हर दिन तो नहीं बाग़, बहारों का ठिकाना!

गुलदान को कागज़ के गुलों से भी सजाना!

 

मुश्किल है चिराग़ों की तरह खुद को जलाना!

भटके हुए राही को डगर उसकी दिखाना!

 

क्या खेल है फ़ेहरिस्त गुनाहों की मिटाना?

जन्‍नत के तलबगार का गंगा में नहाना?

 

तू खैर! मुसाफ़िर की तरह आ! मगर आना!

इक शाम मेरे खाना-ए-दिल में भी बिताना!

 

इक मैं हूँ जो गाता हूं वो ही राग़ पुराना,

इक उनका रिवाजों की तरह मुझको भुलाना!

 

दर्द आह-ओ-फ़ुगाँ बन के हलक़ तक भी आया!

क्या कीजे आया जो हमें अश्क बहाना!

 

अफ़सोस कि अब ये भी रिवायत नहीं होगी,

खुशियोँ में पड़ोसी का पड़ोसी को बुलाना!

 

सुलझी है, ये ज़ीस्त की सुलझेगी पहेली!

लोगों ने तमाम उम्र गंवा दी तो ये जाना!

 

बदला ही नहीं हाल-ए-ज़माना-ओ-जिगर, "धीर"

फिर कैसे नई बात, नये शेर सुनाना?




har din to naheeN baaGh, bahaaroN kaa Thikaanaa!
guldaan ko kaaGaz ke guloN se bhee sajaanaa!

mushkil hai chiraaGhoN kee tarah khud ko jalaanaa!
bhaTke hu'e raahee ko Dagar uskee dikhaanaa!

kyaa khel hai fehrist gunaahoN kee miTaanaa?
jannat ke talabgaar kaa gangaa meN nahaanaa!

too khair! musaafir kee tarah aa! magar aanaa!
ik shaam mere khaanah e dil meN bhee bitaanaa!

ik maiN huN jo gaataa huN wo hee raag puraanaa,
ik unkaa riwaajoN kee tarah mujh ko bhulaanaa!

dard aah o fugaaN ban ke halaq tak bhee nah aayaa!
kyaa keeje nah aayaa jo hameN ashk bahaanaa!

afsoos keh ab yeh bhee riwaayat naheeN hogee,
khushiyoN meN paRosee kaa paRosee ko bulaanaa!

suljhee hai, nah yeh zeest kee suljhe gee pahelee!
logoN ne tamaam um'r Gavaa dee to yeh jaanaa!

badlaa hee naheeN haal e zamaanaa o jigar, "dheer"
phir kaise nayee baat, naye sher sunaanaa?


 

45

(January, 2009)

 

अब इसी आस में जीना होगा,

रात के बाद सवेरा होगा!

 

गुल कहीं और कहीं कांटा होगा,

राह कैसी भी हो चलना होगा!

 

सर झुकाने से फ़क़त क्या होगा?

बेग़रज़ जो हो वो सज्दा होगा!

 

इतना मुश्किल भी नहीं वस्ल-ए-खुदा,

अपनी हस्ती को भुलाना होगा!

 

कल की सोचो तो भली ही सोचो,

सोच अच्छी है तो अच्छा होगा!

 

"रब्त का फल है!" ज़रा सब्र करों,

वक़्त के साथ ही मीठा होगा!

 

एक ही शर्त पे बाटुंगा खुशी,

तेरे ग़म में मेरा हिस्सा होगा!

 

मेरी कोशिश है अमल उस पे करूँ

मैने ग़ज़लों में जो लिक्खा होगा!

 

ज़ीस्त में रंग भरे तुमने ही :धीर:

दोष तक़दीर का कितना होगा?

 

 


ab isii aas meN jeenaa hogaa
raat ke baad saveraa hogaa!

gul kaheeN aur kaheeN kaaNTaa hogaa
raah kaisee bhee ho chalnaa hogaa!

sar jhukaane se faqat kyaa hogaa?
begharaz jo ho woh sajdaa hogaa!

itnaa mushkil bhee naheeN vasl e khudaa
apni hastee ko bhulaanaa hogaa!

kal kee socho to bhalee hee socho
soch achchhee hai to achchhaa hogaa!

"rabt kaa phal hai!" zaraa sabr karo
waqt ke saath hee meeThaa hogaa!

ek hee shart pe baaNTungaa khushee
tere gham meN miraa hissaa hogaa!

meree koshish hai amal us pe karuN
maine ghazloN meN jo likkhaa hogaa!

zeest meN raNg bhare tumne hee :Dheer:
dosh taqdeer kaa kitnaa hogaa?


 

44

(December, 2008)

 

जब गुलाब इश्क़ का सीने में खिला देते हैं लोग,

एक सहरा को गुलिस्तान बना देते हैं लोग!

 

अपने दामन को भी खुद आप जला देते हैं लोग,

जब भी तफ़रीक़ के शोलों को हवा देते हैं लोग!

 

दिल तो उनका है भरा खोट से लेकिन फिर भी,

ये खुला खत है”! भला कैसे जता देते हैं लोग?

 

अहल-ए-दुनिया की ये अफ़साना-निगारी तौबा!

बात छोटी सी हो, अफ़साना बना देते हैं लोग!

 

फिर से अपनो की शहादत पे उठाई है क़सम,

क्या नई बात है? क़समें तो भुला देते हैं लोग!

 

रात अश्कों से फ़साना-ए-मुहब्बत लिख कर,

शम्मा बुझते ही ये तहरीर मिटा देते हैं लोग!

 

सह्‍करते हैं वो अपने ही तमाशे की डगर,

लब पे जब खामोशी की मुह्‍लगा देते हैं लोग!

 

"धीर" तुझ पर भी सोहबत का असर हो जाये,

सब पे अपना सा ही इक रंग चढ़ा देते हैं लोग!

 

 


jab gulaab ishq kaa seene meN khilaa dete haiN log
aik sehraa ko gulistaan banaa dete haiN log!

 

apne daaman ko bhee Khud aap jalaa dete haiN log
jab bhee tafreeq ke sho'loN ko hawaa dete haiN log!

 

dil to unkaa hai bharaa khoT se lekin phir bhee,
:yeh khulaa Khat hai: bhalaa kaise jataa dete haiN log?

 

ahl e duniyaa kee yeh afsaan'ah-nigaaree taubaa
baat chhoTee see ho afsaan'ah banaa dete haiN log!

 

phir se apno kee shahaadat pe uThaayee hai qasam 
kyaa nayee baat hai qasmeN to bhulaa dete haiN log!

 

raat ashkoN se fasaan'ah e muhab'bat likh kar,
sham'ma bujhte hee yeh tehreer miTaa dete haiN log!

 

seh'l karte hai woh apne hee tamaashe kee Dagar
lab pe jab khaamshe kee muh'r lagaa dete haiN log!

 

"dheer" tujh par bhee nah suhbat kaa asar ho aaye
sab pe apnaa saa hee ik rang chaRhaa dete haiN log!

 


 

43

(November, 2008)

 

दिल जुनूँ पेशा है, दिल शौक से होता है फ़िगार,

लाख समझाता हूँ, तूफ़ान में कश्ती उतार!

 

हमने देखा था जिन आँखों में फ़क़त प्यार ही प्यार,

क्यों मुक़द्दर ने उन्हें बक्श दियें अश्क हज़ार!

 

जाने क्यों आज तेरा रुख है उदासी का दयार,

"ले गया छीन के कौन आज तेरा सब्र-ओ-क़रार!" - बहादुर शाह ज़फ़र

 

बात होठों से जो निकली तो उलझती ही गई,

मैने सोचा था निकल जायेगा सीने का ग़ुबार!

 

ज़िन्दगी! तेरी इबादत में कटी उम्र तमाम,

मैने हर सांस में, साँसों का चुकाया है उधार!

 

अह्‍ल-ए-दुनिया भी वो मांगे है जो पाना है मुहाल,

इसलिये गुल की अह्‍मियत को बढ़ा देता है खार!

 

तल्ख हो जाये सच बात को कहने में ज़बाँ,

"धीर"! बेहतर है कि सच्चाई को ग़ज़लों में उतार!

 

 


dil junooN peshaa hai,dil shauk se hotaa hai figaar,
laakh samjhaataa huN, toofaan meN kashtee nah utaar!

 

hamne dekhaa tha jin aaNkhoN meN faqat pyaar hi pyaar,
kyoN muqaddar ne unheN baksh diye ashk hazaar!

 

jaane kyoN aaj teraa rukh hai udaasee kaa dayaar,
     "le gayaa cheen ke kaun aaj teraa sab'r o qaraar!" -- (Bahadur shah zafar)

 

baat hoThoN se jo niklee to ulajhtee hee gayee,
maine sochaa thaa nikal jaayegaa seene ka ghubaar!

 

zindagee! teri ibaadat meN kaTee um'r tamaam,
maine har saaNs meN,saaNsoN kaa chukaaya hai udhaar!

 

ahl e dunya bhee woh maange hai jo  paanaa hai kaThin,
isliye gul kee ahmiyat ko baRhaa detaa hai khaar!

 

talkh ho jaaye nah sach baat ko kahne meN zabaaN,
'dheer' behtar hai keh sachchaayee ko ghazloN meN utaar!

 

 


 

42

(October, 2008)

 

इश्क़ में क्या लुटा, किसे रोता?

जो पाया था उसको क्या खोता!

 

एक बस चैन ही गंवाया था,

रन्ज उसका भी कब तलक होता?

 

दिल ने इक बद्‍दुआ भी दी होती,

क्या सितमगर यूं चैन से सोता?

 

नीयत-ए-राहबर परख लेना,

हर कोई रहनुमा नहीं होता!

 

मेरी ग़ज़लें हैं बाज़गश्त-ए-जहाँ,

जैसे पिंजरे में बोलता तोता!

 

 


ishq meiN kyaa luTaa, kise rotaa?
jo nah paayaa thaa uskoo kyaa khotaa!

 

aik bas chain hee gaNvaayaa thaa,
ranj uskaa bhi kab talak hotaa?

 

dil ne ik bad'duaa bhi dee hotee,
kyaa sitamgar yuN chain se sotaa?

 

neeyat e raahbar parakh lenaa,
har koee rahnumaa naheeN hotaa!

 

meree GhazleN haiN baaz-gasht-e-jahaaN
jaise pinjre meN boltaa totaa!

 


 

 

41

(October, 2008)

 

ख्वाब देखा था जो मैने वो मुकम्मल होगा,

मुझ को उम्मीद है आबाद मेरा कल होगा!

 

धीरे-धीरे ही सही नूर की आमद होगी,

दिल की आँखों से धुआं एक दिन ओझल होगा!

 

आ! इबादत में मुहब्बत को भी शामिल कर लें,

हम से मिलने को खुद अल्लाह भी बेकल होगा!

 

रंज की आग में जलता है तो जलने दो बदन,

कल मसर्रत से भिगोता हुआ बादल होगा!

 

इस से पहले कि खिज़ां खाक में दफ़ना दे उसे,

गुल को, माला में पिरो लें तो मुकम्मल होगा!

 

नींद लौटा दे ये मखमल का बिछौना ले ले,

आँख लग जायेगी तो संग भी मखमल होगा!

 

दिल के बहलाने को इक़रार-ए-मुहब्बत कर ले,

दिल तो नाज़ुक है, खरी बात से घायल होगा!

 

चैन की नींद जो आये तो गुमाँ होता है "धीर",

हो हो सर पे तेरे ख्वाब का आंचल होगा!

 

 


khwaab dekhaa thaa jo maine woh mukam'mal hogaa,
mujh ko um'meed hai aabaad miraa kal hogaa!

dheere dheere hi sahee noor kee aamad hogee,
dil ki aaNkhoN se dhuaaN aik din ojhal hogaa!

aa! ibaadat meN muhab'bat ko bhi shaamil kar leN,
ham se milne ko khud allaah bhi bekal hogaa! 

ranj kee aag meN jaltaa hai to jalne do badan,
kal masar'rat se bhigotaa huaa baadal hogaa!

is se pehle ki KhizaaN khaak meN dafnaa de use, 
gul ko, maalaa meN piro leN to mukam'mal hogaa! 

neend lauTaa de yeh makhmal ka bichhaunaa le le,
aaNkh lag jaayegi to sang bhi makhmal hogaa!

dil ke bahlaane ko iqraar e muhab'bat kar le,
dil to naazuk hai kharee baat se ghaayal hogaa!

chain kee neend jo aaye to gumaaN hotaa hai :dheer:,
ho nah ho sar pe tire khaab ka aaNchal hogaa!


 

40

(October, 2008)

 

उम्मीदें जब भी दुनिया से लगाता है,

दिल-ए-नादाँ फ़क़त धोखे ही खाता है!

 

ये दिल कम्बख्त जब रोने पर आता है,

ज़रा सी बात पे दरिया बहाता है!

 

जो पैराहन तले नश्तर छिपाता है,

लहू इक दिन वो अपना ही बहाता है!

 

वो बचपन में तुझे उँगली थमाता था,

जिसे तू आज बैसाखी थमाता है!

 

जुदा है क़ाफ़िले से रहगुज़र जिस की,

वो ही इक दिन नया रस्ता दिखाता है!

 

तुम्हारा चूमना पेशानी को मेरी,

मेरे माथे की हर सल्वट मिटाता है!

 

 


umeedeN jab bhi dunyaa se lagaataa hai,
dil e naadaaN faqat dhokhe hi khaataa hai! 

yeh dil kambakh't jab rone par aataa hai,
zaraa see baat pe dariyaa bahaataa hai!

jo pairaahan tale nishtar chhipaataa hai,
lahoo ik din woh apnaa hee bahaataa hai!

woh bachpan meN tujhe unglee thamaataa thaa,
jise too aaj baisaakhee thamaataa hai!

judaa hai qaafile se rahguzar jis kee,
wo hee ik din nayaa rastah dikhaataa hai!

tumhaaraa choomanaa peshaani ko meree,
mire maathe kee har salwaT miTaataa hai!

 


 

39

(September, 2008)

 

शायर-ए-फ़ितरत की बातें उन के बस की ही नहीं,

जिन को तौफ़ीक़-ए-सुखनफ़हमी खुदा ने दी नहीं!

 

एक दिन गुल अपने हिस्से के लुटा कर देखिये,

मुद्‍दतों तक उन की बू हाथों से जायेगी नहीं!

 

डूब कर गहराई में जाने का जज़्बा चाहिये,

दौलत-ए-गौहर कभी साहिल पे हाथ आती नहीं!

 

फ़ासलों में हो गई तब्दील जब हद से बढ़ी,

रिश्तों में नज़दीकियां तो हों मगर इतनी नहीं!

 

है दरख्त-ए-याद के साये तले राहत मगर,

राहतों की अब मुझे कोई तलब होती नहीं!

 

"धीर"! आईना था यूँ खामोश मेरे सामने,

एक भी खूबी इसे, जैसे नज़र आई नहीं!

 

 


shaa'ir e fitrat kee baateiN un ke bas kee hee naheeN!
jin ko taufeeq e sukhan fehmee khudaa ne dee naheeN!

ek din gul apne his'se ke luTaa kar dekhiye,
mud'datoN tak un kee boo haathoN se jaayegee naheeN!

Doob kar gehraayee meN jaane kaa jazbaa chaahiye,
daulat e gauhar kabhee saaHil pe haath aatee naheeN!

faasaloN meN ho gayee tabdeel jab had se baRhee,
rishtoN meN nazdikiyaaN to hoN magar itnee naheeN!

hai darakht e yaad ke saaye tale raahat magar,
raahatoN kee ab mujhe ko'ee talab hotee naheeN! 

:dheer:! aa,eenah thaa yooN Khaamosh mere saamne
ek bhee Khoobee ise jaise nazar aayee naheeN!

 

 


 

38

(August, 2008)

 

ज़िन्दग़ी के पेच-ओ-खम से हम थे वाक़िफ़ मगर,

हम जिये, दिल से जिये, छोड़ी नहीं कोई कसर!

 

तू सरापा खूबसूरत थी, मगर ज़िन्दगी!

हमने पाई ही नहीं वो देखने वाली नज़र!

 

तू है सागर नूर का और आत्मा इक बूंद है,

रूह हो जाये मुकम्मल, तुझ में मिल जाये अगर!

 

दैर की क्यों खाक छाने, जब वो हर ज़र्रे में है,

क्यों उसके अक्स को दिल में ही ढुंढे हर बशर!

 

हम ग़रीबों के मुक़द्दर में भला कैसी बहार?

हमने काग़ज़ के गुलों पे इत्र छिड़का उम्र भर!

 

:चैन: था या ज़ीस्त के साहिल पे लिक्खा लफ़्ज़ था,

जब मिला तब लहर-ए-ग़म को हो गई इसकी खबर!

 

 


zindagee ke pech o kham se ham nah the waaqif magar,

ham jiye,dil se jiye,chhoRee naheeN ko'ee kasar!

 

tuu saraapaa khoobsoorat thee, magar ai zindagee,

hamne paayee hee naheeN wo dekhne waalee nazar!

 

tuu hai saagar noor kaa, aur aatmaa ik booNd hai,

rooh ho jaaye mukam'mal, tujh meN mil jaaye agar!

 

dair kee kyoN khaak chhaane, jab woh har zar're meiN hai,

kyoN nah uske aks ko dil meiN hee DhunDe har bashar!

 

ham ghareeboN ke muqad'dar meiN bhalaa kaisee bahaar?

hamne kaaghaz ke guloN pe itra chhiRkaa um'r bhar!

 

:chain: thaa yaa zeest ke saahil pe lik'khaa laf'z thaa,

jab milaa tab leh'r e gham ko ho gayee iskee khabar!

 

 


 

37

(August, 2008)

 

"धीर" अपने ही दामन को, बेदाग़ बनाना है,

फिर जा के ज़माने को आईना दिखाना है!

 

अब तेरी मुहब्बत भी इक भूला फ़साना है, [क़]

इक बंद लिफ़ाफ़ा है, इक ख्वाब पुराना है!

 

अब मुझ से, बता तू ही! उम्मीद-ए-वफ़ा कैसी?

वो और ज़माना था, ये और ज़माना है!

 

उस अब्र को सावन भी, दरकार भला क्यों हों,

दामन जो भिगोता है, आँखों में ठिकाना है!

 

वो तीर-ए-नज़र तेरा, ये चाक-ए-जिगर मेरा,

खतरे हैं बहुत लेकिन, ये खेल सुहाना है!

 

क्यों हर्फ़-ए-नसीहत को, अब कोई नहीं सुनता?

बाबा! ये ज़माना क्या पहले से सयाना है?

 

 


‘dheer’ apne hi daaman ko, bedaagh banaanaa hai,
phir jaa ke zamaane ko aaeen'ah dikhaanaa hai!

ab teree muHabbat bhee ik bhoolaa fasaanah hai, [q]
ik band lifaafaa hai, ik khwaab puraanaa hai!

ab mujh se, bataa too hee, ummeed-e-wafaa kaisee?
woh aur zamaanaa thaa, yeh aur zamaanaa hai! 

us ab'r ko saawan bhi, darkaar bhalaa kyoN hoN,
daaman jo bhigotaa hai,aaNkhoN meN Thikaanaa hai!

woh teer e nazar teraa, yeh chaak e jigar meraa,
khatre haiN bohot laikin,yeh khel suhaanaa hai!

kyoN harf e nasihat ko, ab koee naheeN suntaa?
baabaa! yeh zamaanaa kyaa pehle se sayaanaa hai?

 

 


 

36

(June, 2008)

 

कोई गुन्चा टूट के गिर गया, कोई शाख गुल की लचक गई,

कहीं हिज्र आया नसीब में, कहीं ज़ुल्फ़-ए-वस्ल महक गई!

 

जो अज़ीयतों की शराब थी, वो ही काग़ज़ों पे छलक गई,

मेरे शेर-ओ-नग़्में मचल उठे, मेरी शायरी ही बहक गई!

 

भला ऐसे इश्क़ में लुत्‍क्या, हों जिस में शिकवे, शिकायतें,

मगर, आह! तेरी ये खामोशी, मेरे दिल को आज खटक गई!

 

कभी शम्स है तो क़मर कभी, कभी याद मर्ज़, कभी दवा,

कभी फूल बन के महक उठी, कभी आग बन के दहक गई!

 

भले तीर दिल में चुभे रहे मगर होंठ फिर भी सिले रहे,

सही गई तो क़लम के रस्ते खलिश जिगर की झलक गई!

 

तुझे कोई रन्ज-ओ-मलाल था कि तेरी नज़र में सवाल था?

तेरे होंठ जिस को कह सके, तेरी आँख फिर भी छलक गई!

 

सर-ए-शाम घर को ये वापसी, मेरे हम-नफ़स की ही देन है,

मुझे आते देखा तो राह तकती निगाह कैसी चमक गई!

 

 


koee gunchaa TooT ke gir gayaa, koee shaakh gul kii lachak gayee,
kaheeN hijr aayaa naseeb meiN, kaheeN zulf e vasl mahak gayee!

jo aziyatoN kee sharaab thi, woh hee kaaghazoN pe chhalak gayee,
mire sher o naghm'ah machal uThe, miree shaa'iree hee bahak gayee!

bhalaa aise i'shq meN lut^f kyaa, nah hoN jis meN shikwe, shikaayateN,
magar, aah! teree yeh Khaamshee mire dil ko aaj khaTak gayee!

kabhee shams hai to qamar kabhee, kabhee yaad marz, kabhee dawaa,
kabhee phool ban ke mehak uThee, kabhee aag ban ke dehak gayee!

bhale teer dil meN chubhe rahe magar hoNT phir bhee sile rahe,
nah sahee gayee to qalam ke raste Khalish jigar kee jhalak gayee!

tujhe koee ranj-o-malaal thaa keh tiree naz^a meN sawaal thaa?
tire hoNT jis ko nah keh sake, tiree aaNkh phir bhee chhalak gayee!

sar-e-shaam ghar ko yeh waapasee mire ham-nafas kee hee den hai,
mujhe aate dekhaa to raah taktee nigaah kaisee chamak gayee!


 

35

(June, 2008)

 

तवक़्क़ो एक तरफ़ा इश्क़ से कम हो तो अच्छा है,

उसे बस मुस्कुराता देख के जी लो तो अच्छा है!

 

बहार इक उम्र से बरहम तो पतझड़ महरबां मुझ पर,

मुझे गुलशन से अपने दूर ही रक्खो तो अच्छा है!

 

सिवा कुछ आंसुओं के दाग़, अब उसमें बचा क्या है?

नये रंगों को अब तस्वीर में भर दो तो अच्छा है!

 

उठा कर इक तरफ़ कर दो ये कांटे और पत्थर सब,

कि रस्ता कम से कम औरों को आसां हो तो अच्छा है!

 

दरख्त-ए-तिश्नगी को बूंद कैसी और समन्दर क्या?

उसे :धीरज: चमन से काट ही डालो तो अच्छा है!

 

 


tawaq'qo aik tarfaa ish'q se kam ho to achchhaa hai,
use bas muskuraataa dekh ke jee lo to achchhaa hai!

bahaar ik um'r se barham to patjhaR meh'rbaaN mujh par,
mujhe gulshan se apne door hee rak'kho to achchhaa hai!

sivaa kuchh aaNsuoN ke daagh,ab us meiN bachaa kyaa hai?
naye rangoN ko ab tasweer meiN bhar do to achchhaa hai!

uThaa kar ik taraf kar do yeh kaaNTe aur patthar sab,
keh rastah kam se kam auroN ko aasaaN ho to achhaa hai!

daraKht-e-tishnagee ko booNd kaisee aur samundar kyaa,
use :Dheeraj: chaman se kaaT hee Daalo to achhaa hai!

 

 


 

34

(May, 2008)

 

वहीं पे जा कर उलझ रहा है, जहां से दामन छुड़ा रहे हैं!

चले थे जिस दर से बेखुदी में, उसी को फिर खट-खटा रहे हैं!

 

सिमट के चादर में सोने वाले यूं पावं फैलाते जा रहे हैं!

बढ़ी ज़रा आमदन तो अपनी ज़रूरतों को बढ़ा रहे हैं!

 

तेरी ही बांती, दिया भी तेरा, तेरे ही दम से ये रौशनी है!

तेरी हिफ़ाज़त में ज़िन्दगी के चिराग़ सब झिलमिला रहे हैं!

 

ये किसकी ज़ुल्फ़ों से चुपके-चुपके निकल के शब मुस्कुरा रही है,

ये हार, ये बालियां हैं किसके, जो आसमां को सजा रहे हैं!

 

बढ़ा के रफ़्तार ज़िन्दगी की, जाने क्या कर लिया है हासिल,

जुनून-ए-मंज़िल में किसलिये हम, सुकून-ए-हस्ती गंवा रहे हैं!

 

वो लम्हें जो कल तलक मेरी ज़िन्दगी को बदतर बना रहे थे,

खयालों में आज गये तो, लबों पे मुस्कान ला रहे हैं!

 

महफ़िलें हैं, सुनने वाले, अब रही वो सुखन-नवाज़ी,

वो शेर-ओ-नग़्मे, ग़ज़ल-तराने, किताब में छट-पटा रहे हैं!

 

 


waheeN pe jaa kar ulajh rahaa hai, jahaaN se daaman chhuRaa rahe haiN!
chale the jis dar se bekhudee meiN, usee ko phir khaT-khaTaa rahe haiN,

simaT ke chaadar meiN sone waale yuN paaoN phailaate jaa rahe haiN!
baRhee zaraa aamadan to apnee zarooratoN ko baRhaa rahe haiN!

tiree hi baa.ntee, diyaa bhi teraa, tire hi dam se ye raushanii hai!
tiree hifaazat meiN zindagee ke chiraagh sab jhilmilaa rahe haiN!

ye kiski zulfoN se chupke chupke nikal ke shab muskuraa rahee hai,
ye haar, ye baaliyaaN haiN kiske,jo aasamaaN ko sajaa rahe haiN!

baRhaa ke raftaar zindagee kee, na jaane kyaa kar liyaa hai HaaSil,
junoon e manzil meiN kisliye ham, sukoon e hastee gavaa rahe haiN!

woh lamhe jo kal talak miree zindagee ko badtar banaa rahe the,
khyaaloN meiN aaj aa gaye to,laboN pe muskaan laa rahe haiN!

na mehfileN haiN, na sun'ne waale, na ab rahee woh sukhan-nawaazee!
wo sher o naghme,ghazal taraane, kitaab meiN chhaT-paTaa rahe haiN!

 

 


 

33

(May, 2008)

 

चुपके-चुपके ग़म खुशी के भेस में दाखिल हुआ,

सैंकड़ों कांटे चुभे, तब एक गुल हासिल हुआ!

 

खाक-ए-पा रह के भी एक दिन आसमां को छू गया,

है बुज़ुर्गों की दुआ, जो आज इस क़ाबिल हुवा!

 

फिर उठी है मौज कोई उस निगाह-ए-नाज़ में,

डूब जाय़ेगा वहां दिल, मैं अगर ग़ाफ़िल हुआ!

 

मांगने से क्या मिला, किस वासते अर्ज़-ए-वफ़ा?

दिल अगर आया किसी पे, खुद ही दरियादिल हुआ!

 

किसलिये इतना गुमां, कैसी ये तर्ज़े गुफ़्तगू?

क्यों तेरा हर लफ़्ज़ जैसे नश्तर-ए-क़ातिल हुआ?

 

रोज़-ए-अव्वल से ही सफ़्हे ज़ीस्त के पढ़ता रहा,

था दिल-ए-नादां तब कामिल, अब कामिल हुआ!

 

जब कभी साया भी तन्हा छोड़ कर चलता बना,

"धीर" तब भगवान ही ग़म में तेरे शामिल हुआ!

 

 


chupke chupke gham khushee ke bhes meiN daakhil huaa!
saNkaroN kaaNTe chubhe, tab ek gul HaaSil huaa!

khaak e paa rah ke bhee ik din aasamaaN ko chhuu gayaa,
hai buzurgoN kee du,a'a jo aaj is qaabil huwaa!

phir uThee hai mauj koee us nigaah e naaz meiN,
Doob jaaYe gaa wahaaN, dil maiN agar Ghaafil huwaa!

maangane se kyaa milaa,kis vaasate arz e wafaa?
dil agar aayaa kisee pe,khud hi daryaa dil huaa!

kisliye itnaa gumaaN kaisee yeh tarz'e guft'goo?
kyoN tiraa har lafz jaise nashtar e qaatil huaa?

roz e av'val see hee safh'e zeest ke paRhtaa rahaa,
thaa dil e naadaaN nah tab kaamil, nah ab kaamil huaa

jab kabhee saayah bhee tanhaa chhoR kar chaltaa banaa,
'dheer' tab bhagvaan hee gham meiN tire shaamil huaa!

 

 

 


 

32

(April, 2008)

 

जब सोच कोई शेर में, ढलने को तरसती है,

तब रात क़लमकार की, बेख्वाब गुज़रती है!

 

मत छेड़ अभी ज़ख्म से, इक हूक सी उठती है,

शोलों की तपिश राख में कुछ देर तो रहती है!

 

क्यों दिल के गुलिस्तान में अफ़सुर्दगी छाई है?

क्यों एक तबस्सुम को, ये रूह तरसती है?

 

गलियों में तेरे शह्‍की, इक नीम नहीं लेकिन,

हर एक ज़बां "धीर" पर, क्यों ज़ह्‍उगलती है!

 

यां अपने किये की सज़ा, खुद को ही भुगतनी है,

रह रह के सदा बस ये ही कानों में उतरती है!

 

जब ज़िक्र तेरे हुस्न का तहरीर में आता है,

वल्लाह ग़ज़ल :धीर: की, क्या खूब निखरती है!

 

 


jab soch koee sher meiN, Dhalne ko tarastee hai,
tab raat qalamkaar kee, bekhwaab guzartee hai!

mat chheR abhee zakhm se ,ik hook si uThtee hai,
sholoN ki tapish raakh meiN kuchh der to rahtee hai!

kyoN dil ke gulistaan meiN afsurdagi chhaayee hai?
kyoN aik tabas'sum ko, yeh rooh tarastee hai?

galiyoN meiN tire sheh'r kee, ik neem naheeN laikin,
har ek zabaaN Dheer par kyoN zehr ugaltee hai!

yaaN apne kiye kee sazaa,khud ko hee bhugatnee hai!
rah rah ke sadaa bas ye hee kaanoN meiN utartee hai!

jab Zikr tire Husn kaa teHreer meN aataa hai,
wal'laah ghazal :Dheer: kee,kyaa khoob nikhartee hai!

 

 


 

31

(April, 2008)

 

कहां अपने ही पैराहन पे जाती हैं निगाहें,

यहां बस गैर के दामन पे जाती हैं निगाहें!

 

 


kahaaN apne hii pairaahan pe jaatee haiN nigaaheN,
yahaaN bas gair ke daaman pe jaatee haiN nigaaheN!

 

 


 

30

(March, 2008)

 

मेरी जां! तेरी आँख खुलने से पहले,

चला हूं मैं ये रात ढलने से पहले!

 

मैं पत्तों से थोड़ी सी शबनम उठा लूं,

मैं सूरज की पहली किरन को चुरा लूं

 

किसी फूल की खिल-खिलाती हंसी को,

किसी खेत की लह-लहाती छवी को!

 

चहकते हुए पंछियों की सदायें,

ठुमकती हुई हिरणियों की अदायें!

 

भरी दो-पहर में इक अम्बिया की छाया,

महकती हवा और नदिया की धारा!

 

जो हो जाये फिर शाम को लाल अम्बर,

मैं थोड़ा सा सिन्दूर उस का चुरा कर!

 

ज़रा अपनी आँखों की डिबिया में भर लूं,

मैं पलकों के पीछे इन्हें क़ैद कर लूं!

 

इसी आशियाने में चंदा निकलते,

मैं जाऊंगा लौट कर शाम ढलते!

 

तेरे ख्वाब का शह्‍इन से सजा के,

तेरी रात के ग़र की रंगत बढा के!

 

तेरे चेहरे को रात भर मैं तकुंगा,

तेरी नींद की पासबानी करूंगा!

 

यही सोच कर आज घर से चला हूं,

मेरी जां! तेरी आँख खुलने से पहले,

चला हूं मैं ये रात ढलने से पहले!

 

 


miree jaaN tiree aaNkh khulne se pehle
chalaa huN maiN yeh raat Dhalne se pehle!

maiN pattoN se thoRee see shabnam uThaa looN
maiN sooraj kee pehlee kiran ko churaa looN

kisee phool kee khil-khilaatee haNsee ko,
kisee khet kee lah-lahaatee chhavii ko!

chahakte hue paNchhiyoN kee sadaayeiN,
Thumaktii huii hirniyoN kee adaayeiN!

bharee do-pahar meN ik ambiyaa ki chhaayaa,
mahaktee hawaa aur nadiyaa ki dhaaraa!

jo ho jaaye phir shaam ko laal ambar
maiN thoRaa saa sindoor us kaa churaa kar!

zaraa apnii aaNkhoN kee Dibiyaa meiN bhar luN,
maiN palakoN ke peechhe inheN qaid kar luN!

isee aashiyaane meiN chandaa nikalte,
maiN aa jaauNgaa lauT kar shaam dhalte!

tire khwaab kaa sheh'r in se sajaa ke,
tiree raat ke ghar ki rangat baDhaa ke!

tire chehre ko raat bhar meiN takungaa 
tiree neend kee paasbaanii karuNgaa!

yeh hee soch kar aaj ghar se chalaa huN,
miree jaaN tiree aaNkh khulne se pehle! 
chalaa hooN maiN yeh raat Dhalne se pehle!

 

 


 

29

(January, 2008)

 

नमी बाकी रहें आँखों में, दामन तर नहीं करना,

रहें गौहर समन्दर में, उन्हें बेघर नहीं करना!

 

ये फ़स्ल-ए-ख्वाब इक दिन लह-लहाएगी हक़ीक़त में,

निगाहों की ज़मीं को सींचना, बंजर नहीं करना!

 

कभी ग़ैरों की महफ़िल में, रुस्वा कर अज़ीज़ों को,

तू घर की बात का चर्चा कभी बाहर नहीं करना!

 

कोई अपना भले ही मुद्‍दतों के बाद घर आये,

गिले-शिकवे हज़ारों कर, तकल्लुफ़ पर नहीं करना!

 

किसी छाती में तेरे लफ़्ज़, नश्तर से चुभ जायें,

कलम को बस कलम रखना, इसे खंजर नहीं करना!

 

रसोई में रखे बर्तन तो ज़ाहिर है कि खनकेंगे,

ज़रा सी बात पर हाल-ए-वतन बदतर नहीं करना!

 

(अपने नाना जी  के इन्तक़ाल  पर उन्हें नज़्र मक़्ता)

 

खुदा के हुक्म से इक ज़िन्दा-दिल रुख्सत-तलब है "धीर",

उसे हंसते हुए रुख्सत करों, रोकर नहीं करना!

 

 


namii baakii rahe aaNkhoN meN, daaman tar naheeN karnaa,
rahe gauhar samandar meN, unheN beghar naheeN karnaa!

ye fasl-e-khwaab ik din lah-lahaa'egii haqiiqat meN,
nigaahoN ki zameeN ko seeNchnaa, baNjar naheeN karnaa!

kabhii gairoN kii mehfil meN, na ruswaa kar azeezoN ko,
tu ghar kii baat kaa charchaa kabhii baahar naheeN karnaa!

koii apnaa bhale hii mud'datoN ke baad ghar aaye,
gile-shikwe hazaaroN kar, takal'luf par naheeN karnaa!

kisii chhaatii meN tere laf'z, nashtar se na chubh jaayeN,
kalam ko bas kalam rakhnaa, ise khanjar naheeN karnaa!

rasoyee meN rakhe bartan to zaahir hai ki khankenge,
zaraa sii baat par haal e watan badtar naheeN karnaa!

(apne naanaa jaan (nanaa jii ) ke inteqal (dehavsaan) par unhe naz'r maqta'h)

khudaa ke huk'm se ik zinda'h-dil rukhsat-talab hai "dheer",
use haNste hue rukhsat karo, rokar naheeN karnaa!

 


 

 

28

(December, 2007)

 

चलते-चलते राह मे तब ठोकरें खाया करे,

आँख जब सू-ए-फ़लक, राही की उठ जाया करे!

 

आफ़ताब-ए-ज़िन्दगी होता है रौशन एक बार,

एक क़तरा भी तू इस नूर का ज़ाया करे!

 

छांव दे पाता नही पतझड़ में जब कोई शजर,

ज़र्द पत्तों का बिछौना बन के बिछ जाया करे!

 

वक़्त की आंधी बुझाती ही रही मेरे दिये,

अब ये आलम है कि दिल झोंके से डर जाया करे!

 

आँख हो जाती अगर नम, धुल ही जाता दिल मेरा,

ऐसी पथराई के क़तरा भी बरसाया करे!

 

एक कांधे का सहारा जीते जी मिलता नहीं,

चार कांधे मौत पर हर शक्स ही पाया करे!

 

बद्‍दुआ दूं या दुआ दूं, फ़ैंसला कैसे करूं?

ज़ख्म देकर जब वही ज़ख्मों को सहलाया करे!

 

 


chalte chalte raah me tab ThokareN khaayaa kare,
aaNkh jab soo e falak raahii ki uTh jaayaa kare!

 

aaftaab-e-zindagee hotaa hai raushan ek baar,
ek qat^rah bhee nah too is noor kaa Z^aayaa kare!

 

chhaaNv de paataa nahii patjhaR meiN jab koii shajar,
zard pattoN kaa bichhaunaa ban ke bichh jaayaa kare!

 

waqt kii aaNdhii bujhaatii hii rahii mere diye,
ab ye aalam hai ke dil jhoNke se Dar jaayaa kare!

 

aaNkh ho jaatii agar nam, dhul hii jaataa dil miraa,
aisii pathraayii ke qat^rah bhii nah barsaayaa kare!

 

aik kaandhe kaa sahaaraa jeete jii miltaa nahii, 
chaar kaandhe maut par har shaks hii paayaa kare!

 

bad'duaa duN yaa duaa duN, faiNsalaa kaise karuN?
zakhm dekar jab who hee zakhmoN ko sahlaayaa kare!

 

 

 


 

27

(November, 2007)

 

गुलाब तेरी याद का किताब मे खिला हुआ,

तेरा खयाल ज़ह्‍मे बसा हुआ, सजा हुआ!

 

वो जाम आँख से तेरी, पिये कि लड़्खड़ा गया,

निगाहे मिलना जैसे इक हसीन मयकदा हुआ!

 

सुकून से कटी थी सर्द रात भी कभी-कभी,

जो रात तेरे जिस्म का अलाव तापना हुआ!

 

हर एक रब्त उम्र भर के वासते कहां रहा?

झपक के आँख जब खुली तो तुमसे फ़ांसला हुआ!

 

मलाल ये नहीं के जुस्तजू तुझे मेरी थी,

मलाल था के तु भी अपने प्यार से जुदा हुआ!

 

कहीं तो आशिक़ी मे आदमी लुटा लुटा रहा,

कहीं मुहब्बतों मे आदमी खुदा बना हुआ!

 

हर एक बेज़बान शय को बक्श दी ज़बान है,

मुझे लगा खुदा है शायरी मे बोलता हुआ!

 

वो कौन था जो बारहा कलम की नोक़ पर रहा?

हज़ार "धीर" ने लिखा मगर वो अदा हुआ!

 

 


gulaab teri yaad kaa kitaab me khilaa huaa,
tiraa khayaal zeh'n me basaa huaa,sajaa huaa!

woh jaam aaNkh se tirii piye keh laRkhaRaa gayaa,
nigaahe milna jaise ik haseen maikadaa huaa!

sakoon se kaTii thi sard raat bhii kabhii kabhii,
jo raat tere jism kaa alaav taapanaa huaa!

har ek rab't umr bhar ke vaasate kahaaN rahaa?
jhapak keh aaNkh jab khulii to tumse faaNsalaa huaa!

malaal ye nahiiN ke justajoo tujhe mirii nah thii,
malaal thaa ke tu bhi apne pyaar se judaa huaa!

kaheeN to aashiqii me aadamii luTaa luTaa rahaa,
kaheeN muhab'batoN me aadamii khudaa banaa huaa!

har ek bezabaan shay ko baksh dii zabaan hai,
mujhe lagaa khudaa hai shaa'irii me bolataa huaa!

wo kaun thaa jo baarahaa kalam kii noq par rahaa?
hazaar "dheer" ne likhaa magar nah woh adaa huaa!

 


 

 

26

(November, 2007)

 

घावं सूखा हुआ था, हरा हो गया,

जब उसी शक्स का तज़किरा हो गया!

 

वो गया ज़िन्दगी से बहारें गईं,

ज़िन्दगी का मज़ा किरकिरा हो गया!

 

दिल के बदले मिले दिल तो क्या बात हो,

आप समझें कि सौदा खरा हो गया!

 

गया उन लबों पर मेरा नाम कल,

क्या कहें क्या अजब माजरा हो गया!

 

पूछ्ते हो सबब तिश्नगी का मेरी,

मैने जिसको छुआ वो ज़रा हो गया!

 

एक मैं ही नहीं और भी कह गये,

इश्क़ में आदमी बावरा हो गया!

 

जब लगाया मुझे, तूने अपने गले,

एक दिल ही बचा था, तेरा हो गया!

 

जब तलक "धीर" से आपको थी ग़रज़,

वो भला था मगर अब बुरा हो गया!

 

 


ghaaoN sookhaa huaa thaa, haraa ho gayaa,
jab usii shak's kaa tazkiraa ho gayaa!

woh gayaa zindagii se bahaareN gayeeN,
zindagii kaa mazaa kirkiraa ho gayaa!

dil ke badle mile dil to kyaa baat ho,
aap samjhe keh saudaa kharaa ho gayaa!

aa gayaa un laboN par miraa naam kal,
kyaa kaheN kyaa ajab maajharaa ho gayaa!

poochhte ho sabab tishnagii kaa mirii,
maine jisko chhuaa woh zaraa ho gayaa!

ek maiN hii naheeN aur bhii kah gayeN,
ish'q me.n aadamii baawaraa ho gayaa!

jab lagaayaa mujhe too ney apne galay,
aik dil hii bachaa thaa, tiraa ho gayaa!

jab talak "dheer" se aapko thii gharaz,
woh bhalaa thaa magar ab buraa ho gayaa!

 

 


 

25

(October, 2007)

 

क़ाफ़िलें जब भी कभी यादों के गुज़रे,

राह में तब सैंकड़ों अफ़साने बिखरे!

 

रात से ज़ख्मों ने फिर यारी निभायी,

रात आई और ये कम्बख्त उभरे!

 

अब किसी को खाक पहचाना करेंगे,

एक चेहरा, उसके पीछे लाख चेहरे!

 

जिनके दिल में हम कभी भी रह पाये,

वो हमारी ही ग़ज़ल में के ठहरे!

 

हम भला गहनों से उनको क्या सजायें,

वो तो बिन्दिया और सुरमे से ही निखरे!

 

इश्क़ के धागे में अश्क़ों को पिरो के,

हमने पहनी एक माला और संवरे!

 

"धीर" पीकर चुप रहे तो ही भला है,

दफ़्न हैं सीने में कितने राज़ गहरे!

 

 


qaafileN jab bhii kabhii yaadoN ke guzre,
raah me.n tab saiNkaRoN afsaane bikhre!

 

raat se zakhmoN ne phir yaarii nibhaayii,
raat aayii aur ye kambakh't ubhre!

 

ab kisii ko khaak pahchaanaa kareNge,
aik chehraa uske piichhe laakh chehre!

 

jinke dil me.n ham kabhii bhii rah nah paaye,
woh hamaarii hii ghazal meN aake Thahre!

 

ham bhalaa gahnoN se unko kyaa sajaayeN,
woh to bindyaa aur surme se hee nikhre!

 

ish'q ke dhaage me.n ashqoN ko piro ke,
hamne pahnii aik maalaa aur sanWre!

 

'dheer' piikar chup rahe to hii bhalaa hai,
daf'n haiN seene me.n kitne raaz gahre!

 


 

 

24

(October, 2007)

 

निंदिया बैरी, रूठी रैना,

अक्सर यूं भी बीती रैना!

 

आँख लगे तो पल में बीते,

नींद बिना हो लम्बी रैना!

 

भोर भयी जब वो मुस्काई,

कैश खुले तो आई रैना!

 

बिरहा में सावन की रिम-झिम,

कैसे कांटू भीगी रैना!

 

नींद में खोया तेरा मुखड़ा,

तकते-तकते बीती रैना!

 

जो ना देखूं तेरी सूरत,

दिन भी सूना, सूनी रैना!

 

हर पूनम को दुल्हन-दुल्हन,

आई अमावस, उझड़ी रैना!

 

"धीर" को है कितनी अभिलाषा,

आओं सजाओं उस की रैना!

 

 


nindyaa bairii, rooThii rainaa,
aksar yuN bhii beetii rainaa!

 

aaNkh lage to pal me.n beete,
niNd binaa ho lambii rainaa!

 

bhor bhayee jab woh muskaayee,
kaish khule to aayee rainaa!

 

birhaa me.n saawan kii rim him,
kaise kaaNTuu bheegii rainaa!

 

nind me.n khoya teraa mukhRaa,
takte takte beetee rainaa!

 

jo naa dekhuN terii soorat,
din bhii soonaa,soonii rainaa!

 

har poonam ko dulhan dulhan,
aayee amaawas, uza.Dii rainaa!

 

"dheer" ko hai kitnee abhilaashaa,
aa,o sajaa,o us kee rainaa!

 

 


 

23

(September, 2007)

 

खुदा! बक्शी है इतनी भी अज़ीयत किसलिये?

दौलत-ए-लज़्ज़त लुटाने में किफ़ायत किसलिये?

 

इश्क़ गर तेरी इबादत है तो मुझको ये बता,

इश्क़ करने के लिये जग की इजाज़त किसलिये?

 

मत सता ज़ालिम ग़रिबों को, खुदा से डर ज़रा,

वक़्त से पहले बुलाता है क़यामत किसलिये?

 

इक नज़र डाले बिना जो खत जलाता था मेरे,

भेजता है आज पैग़ाम-ए-मुहब्बत किसलिये?

 

ऐब देखे उसने मेरे और क्या देखा है "धीर"?

नुक्‍ताचीनी की भला ऐसी भी आदत किसलिये?

 

 


ai khudaa! bakshii hai itnii bhii aziiyat kisliye?
daulat e lazzat luTaane me.n kifaayat kisliye?

ishq gar terii ibaadat hai to mujhko yeh bataa,
ishq karne ke liye jag kii ijaazat kisliye?

mat sataa zaalim ghariboN ko, khudaa se Dar zaraa,
waqt se pehle bulaataa hai qiyaamat kisliye?

ik nazar Daale binaa jo khat jalaataa thaa mire,
bhejataa hai aaj paigaam e muhabbat kisliye?

aib dekhe usne mere aur kyaa dekhaa hai "Dheer"?
nuktachiinii kii bhalaa aisii bhi aadat kisliye?

 

 


 

22

(August, 2007)

 

आँख से जब भी मांगे तो मोती मिले,

ये समन्दर बहुत ही बड़ा दिल रखे!

 

आश्नाई तो है चार दिन की वले,

रब्त अपना मुझे इक जनम का लगे!

 

हैं परिन्दें फ़किरों कि फ़ितरत लिये,

आज बैठे यहां कल वहां चल दिये!

 

मैं तेरी राह का कोई पत्थर नहीं,

ठोकरें मारता-मारता क्यों चले?

 

काश! दिल की कली सहमी-सहमी हो जब,

तब सबा प्यार की, हाथ सर पर रखे!

 

रहगुज़र उस की अब और है, मेरे दिल,

मुंतज़िर क्यों रहे? राह किसकी तके?

 

मौसम-ए-हिज्र में अब्र-ए-ग़म का सितम?

दामन-ए-यार बिन, तर-बतर दिल रहे!

 

पेट की भूख बेड़ी बनी पांव की,

"धीर" का इस नगर में कहां दिल लगे!

 

 


aaNkh se jab bhii maange to motii mile,
ye samandar bahut hii baRaa dil rakhe!

aashnaayee to hai chaar din kee wale,
rab't apnaa mujhe ik janam kaa lage!

haiN parindeN fakiroN ki fitrat liye,
aaj baiThe yahaaN kal wahaaN chal diye!

maiN tirii raah kaa koii pat'thar naheeN,
ThokareN maarataa maarataa kyoN chale?

kaash dil kee kalee sehmee sehmee ho jab,
tab Sabaa pyaar kee, haath sar par rakhe!

rehguzar us kee ab aur hai, mere dil,
muntazir kyoN rahe? raah kiskii take?

mausam-e-hijr meN abr-e-gham kaa sitam?
daaman-e-yaar bin, tar-batar dil rahe!

peT kii bhookh be.Dii banii paaNv kii,
:dheer: kaa is nagar me.n kahaaN dil lage!

 


 

 

21

(July, 2007)

 

गुज़रे लम्हों में जीने की, आदत यारों छोड़ी गई,

इक उस की याद क़यामत थी, चाहा तो बहुत भूली गई!

 

उस बन्द पुराने कमरे को, जो आज अचानक खोल दिया,

तस्वीर लगी थी मैज़ पे जो, देखी नही गई, फेंकी गई!

 

दिल दरिया था पर क्या करते, लोगों पे करम क्या फ़रमाते,

ज़रदार थे ग़म की दौलत के, ऐसी दौलत बांटी गई!

 

बचपन में सुना था नानी से, घर में इक क्यारी होती है,

अब लोग सयाने है इन से, इक तुलसी भी बोयी गई!

 

इक पट्टा पेट पे बंधा है, इक पत्थर सर पे रक्खा है,

मज़दूर ने दिन भर काम किया, पर पेट में इक रोटी गई!

 

कुछ होठों पे जाती है, कुछ काग़ज़ पे लिख देता हूं,

पर ऐसी भी इक बात है जो बोली गई, लिक्खी गई!

 

 


guzre lamhoN me.n jeene kii, aadat yaaroN chhoRii nah gayii,
ik us kee yaad qiyaamat thee, chaahaa to bohat bhoolee nah gayii!

 

us band puraane kamre ko, jo aaj achaanak khol diyaa,
tasweer lagii thii maiz pe jo, dekhii nahii gayii,pheNkee nah gayii!

 

dil dariyaa thaa par kyaa karte,logoN pe karam kyaa farmaate,
zardaar the gam kii daulat ke, aisii daulat baa.nTii nah gayii!

 

bachpan me.n sunaa thaa naanii se,ghar me.n ik kyaaree hotii hai,
ab log sayaane hai in se, ik tulsii bhii boyii nah gayii!

 

ik paTTaa peT pe bandhaa hai, ik patthar sar pe rakkhaa hai,
mazdoor ne din bhar kaam kiyaa,par peT me.n ik roTii nah gayii!

 

kuchh hoToN pe aa jaatii hai, kuchh kaaghaz pe likh detaa huN,
par aisee bhee ik baat hai jo bolee nah gayee, lik'khee nah gayee!

 

 


 

20

(July, 2007)

 

कोई ज़ुल्म ढाता रहा ज़िन्दगी भर,

कोई मुस्कुराता रहा ज़िन्दगी भर!

 

हो कांटे के शोले, की फ़िक्र कोई,

मैं दामन सजाता रहा ज़िन्दगी भर!

 

कि जब ज़िन्दगी से नहीं खुश रहा वो,

तो क्यों मुस्कुराता रहा ज़िन्दगी भर?

 

जो घर में सिवा उसके कोई नहीं था,

तो किसकी सुनाता रहा ज़िन्दगी भर!

 

थी मासूम सी उन दिनों की कहानी,

वो बचपन लुभाता रहा ज़िन्दगी भर!

 

था मेरा शजर ही हवा का खिलौना,

मैं तिनके उठाता रहा ज़िन्दगी भर!

 

इक इंसान को जब खुदा कह दिया तो,

वो मिन्‍नत कराता रहा ज़िन्दगी भर!


koee zulm Dhaataa rahaa zindagii bhar,
koee muskuraataa rahaa zindagii bhar!

 

ho kaa.nTe ke shole,na kii fikr koee,
maiN daaman sajaataa rahaa zindagii bhar!

 

keh jab zindagee se naheeN Khush rahaa woh,
to kyoN muskuraataa rahaa zindagee bhar?

 

jo ghar me.n sivaa uske koii naheeN thaa,
to kiskii sunaataa rahaa zindagii bhar!

 

thii maasuum sii un dinoN kii kahaanii,
woh bachpan lubhaataa rahaa zindagii bhar!

 

thaa meraa shajar hee hawaa kaa Khilaunaa,
maiN tinke uThaataa rahaa zindagii bhar!

 

ik insaan ko jab Khudaa keh diyaa to,
woh minnat karaataa rahaa zindagee bhar!

 


 

19

(June, 2007)

 

अब के सावन चुनरी रंगाना,

अब के सावन कजरा लगाना,

अब के सोलहवा सावन है,

अब के सावन कुछ शर्माना!

 

अब के बगियां में जो जाओ,

अब के जो तुम गजरा लगाओ,

अब के भंवरे मंडरायेंगे,

अब के उनसे अंखियां चुराना!

 

अब के चांद की तुम पे नजरिया,

अब के तुम पे मन मैला है,

अब के लजायेगा ना दर्पण,

अब के मगर है तुमको लजाना!

 

अब के पनघट गगरी बचा के,

अब के पनघट श्याम आयेगा,

अब के बंसरी मोह लेगी तोहे,

अब के सोलहवा सावन है!

 

अब के सावन कुछ शर्माना,

अब के सोलहवा सावन है!

 

 


ab ke saawan chunri raNgaanaa, 
ab ke saawan kajraa lagaanaa,
ab ke solahwaa saawan hai, 
ab ke saawan kuchh sharmaanaa!

 

ab ke bagiyaa.n meN jo jaao, 
ab ke jo tum gajraa lagaao,
ab ke bhaNwre ma.nDrayenge, 
ab ke unse aNkhiyaa.N churaanaa!

 

ab ke chaaNd ki tum pe najariyaa,
ab ke tum pe man mailaa hai, 
ab ke lajaayegaa naa darpan, 
ab ke magar hai tumko lajaanaa!

 

ab ke panghaT ghaghrii bachaa ke, 
ab ke panghaT shyaam aayegaa, 
ab ke baNsarii moh legii tohe, 
ab ke solahwaa saawan hai!

 

ab ke saawan kuchh sharmaanaa, 
ab ke solahwaa saawan hai!!


 

 

18

(June, 2007)

 

मिट्टी से बना मिटना ही है,

मिट्टी में उसे मिलना ही है!

 

इक रुत है मुकर्रर हर गुल की,

हर गुल इक दिन खिलना ही है!

 

मेहफ़िल में पुराने यारों की,

चर्चा तो तेरा छिड़ना ही है!

 

ये राज़-ए-मोहब्बत आम हो,

होठों को तुझे सिलना ही है!

 

फ़ितरत से भले बंजारा हूं,

इक दिन तो कहीं टिकना ही है!

 

कुछ छींट कंवल पे ग़िरते हैं,

संगत का असर दिखना ही है!

 

 


miTTii se banaa miTnaa hii hai,
miTTii me.n use milnaa hii hai!

 

ik rut hai mukarrar har gul kii,
har gul ik din khilnaa hii hai!

 

mehfil meN puraane yaaroN kii,
charchaa to tiraa chhiRnaa hii hai!

 

yeh raaz-e-mohabbat aam nah ho,
hoThoN ko tujhe silnaa hii hai!

 

fitrat se bhale banjaaraa huN,
ik din to kahiiN Tiknaa hii hai!

 

kuchh chhiNT kaNwal pe ghirte haiN,
sangat kaa asar dikhnaa hii hai!

 


 

17

(June, 2007)

 

बालों में सजा लेना, मन्दिर में चढ़ा देना,

गुल शाख पे मुरझाये, ऐसी सज़ा देना!

 

तक़दीर है जादूगर, इक फ़न इसे आता है,

हंसतों को रुला देना, रोतो को हंसा देना!

 

महलों के चिराग़ों के रखवालों से कह दो ये,

बस्ती के दियों को भी, बुझते से जला देना!

 

जंग और मुहब्बत में अक्सर ही ये होता है,

सब कुछ ही लुटा देना, सब कुछ ही गंवा देना!

 

ज़ख्मों से जिगर के तो सब हार गय़े आखिर,

ये ज़ख्म नहीं भरते, फिर कैसी दवा देना!

 

दरया-ए-मुहब्बत बन, अश्कों में धरा क्या है?

हंसने का मज़ा लेना, हंसने का मज़ा देना!

 

 


baaloN meN sajaa lenaa,mandir meN chaRhaa denaa,
gul shaakh pe murjhaaye, aisii nah sazaa denaa!

 

taqdir hai jaadoogar, ik fan ise aataa hai,
ha.NstoN ko rulaa denaa,roto ko haNsaa denaa!

 

meHloN ke chiraaGhoN ke rakhwaaloN se keh do yeh,
bastii ke diyoN ko bhii,bujhte se jalaa denaa!

 

jang aur mohabbat meN aksar hii yeh hotaa hai,
sab kuchh hi luTaa denaa,sab kuchh hii gavaa denaa!

 

zaKhmoN se jigar ke to sab haar gaYe aaKhir, 
yeh zaKhm naheeN bharte, phir kaisee dawaa denaa!

 

daryaa-e-muHabbat ban, ashkoN meN dharaa kyaa hai?
haNsne kaa mazaa lenaa, haNsne kaa mazaa denaa!

 


 

16

(June, 2007)

 

हज़ारों रन्ज-ओ-ग़म मिल जाये भी तो क्या गिला करना,

यूं आंधी में किसी पत्ते के जैसे क्या उड़ा करना!

 

चलों तूफ़ान को आने दो, खुद को आज़मायेंगे,

जिगर हो सिंदबाद अपना, भला फिर क्यों डरा करना!

 

अगर वो प्रीत को ठुकरा के जाता है तो जाने दे,

वो क़ाबिल ही नहीं तेरे, गम उसका किया करना!

 

मुसीबत आज की देगी तुझे कल के लिये हिम्मत,

तो कल की फ़िक्र में खुद को परेशां क्या ज़रा करना!

 

भले पत्थर नहीं पर मोम का दिल भी नहीं रखना,

मुसल्सल कारवां-ए-अश्क़ को क्यों कर रवां करना!

 

कभी दो हाथ औरों के लिये भी तो उठा लीजे,

हमेशा अपने ही खातिर खुदा से क्या दुआ करना!

 

 


hazaaroN ranj o gham mil jaaye bhii to kyaa gilaa karnaa,
yuN aandhii meN kisii pat’te ke jaise kyaa uRaa karnaa!

 

chalo toofaan ko aane do, khud ko aazamaayenge,
jigar ho sindabaad apnaa, bhalaa phir kyoN Daraa karnaa!

 

agar woh preet ko Thukraa ke jaataa hai to jaane de,
woh qaabil hii nahiiN tere,nah gam uskaa kiyaa karnaa!

 

musiibat aaj kii degii tujhe kal ke liye him'mat,
to kal kii fikr meN khud ko pareshaaN kyaa zaraa karnaa!

 

bhale pat'thar nahiiN par mom kaa dil bhii nahiiN rakhnaa,
musalsal kaaravaaN e ashq ko kyoN kar ravaaN karnaa!

 

kabhii do haath auroN ke liye bhii to uThaa leeje,
hameshaa apne hii khaatir khudaa se kyaa du'aa karnaa!

 


 

15

(June, 2007)

 

प्यार को पिन्जरा बनायेगा तो मर जायेगा,

जाने दे वो जहां जाता है, किधर जायेगा?

 

ज़ह्‍थकता नहीं, थक जाता है बदन लेकिन,

सांस रुकते ही ये राही भी ठहर जायेगा!

 

यूं ही इस बार बिना बरसे गया फिर सावन,

अब के एक और भी देह्कान नगर जायेगा!

 

तो औलाद, शागिर्द, क़दरदान कोई,

साथ नक़्क़ाश के ही उस का हुनर जायेगा!

 

कारवां, "धीर" ,मन्ज़र हो, ठहरता कभी,

कि गुज़रते ही गुज़रते ये गुज़र जायेगा!


pyaar ko pinjaraa banaayegaa to mar jaayegaa,
jaane de wo jahaa.N jaataa hai, kidhar jaayegaa?

 

zah’n thaktaa nahiiN thak jaataa hai badan lekin,
saaNs rukte hii yeh raahii bhii Thahar jaayegaa!

 

yooN hi is baar binaa barse gayaa phir saawan,
ab ke ek aur bhii dehkaan nagar jaayegaa!

 

nah to aulaad, na shaagird, qadardaan koyii,
saath naqqaash ke hii us kaa hunar jaayegaa!

 

kaaravaa.N, 'dheer' ,yah manzar ho, Thahartaa na kabhii,
ki guzarte hi guzarte ye guzar jaayegaa!

 


 

14

(May, 2007)

 

ऐसी भी कैफ़ियत थी, ऐसी थी एक उल्झन,

वो साथ रहा मेरे, मैं फिर भी रही बिरहन!

 

क़ुदरत भी अमावस का काला लिबास लाई,

ना चन्द तारें थे जब रात बनी दुल्हन!

 

जो मेरा दिवाना था उसको मैने चाहा,

जो था मुझको हासिल उसपे लुटाया तन-मन!

 

जब घर से प्यार जाये, ज़िन्दान सा बन जाये,

रिश्तों को डोरियां भी बन जाये एक बन्धन!

 

ज़िन्दा था एक शायर तब कद्र की कोई,

जो आज मर गया तो लकड़ी हो लाये चन्दन!


aisii bhii kaifiyat thii aisii thii ik uljhan,
wo saath rahaa mere maiN phir bhee rahii birhan!

 

kudarat bhii amaawas kaa kaalaa libaas laayii,
naa chand na taare the jab raat banii dulhan!

 

jo meraa diwaanaa thaa usko na maine chaahaa,
jo thaa na mujhko HaaSil uspe lutaayaa tan-man!

 

jab ghar se pyaar jaaye, zindaan saa ban jaaye,
rishtoN ko doriyaaN bhii ban jaaye ek bandhan!

 

zindaa thaa ek shaayar tab kadra nah kee koee,
jo aaj mar gayaa to lakRii ho laaye chandan!

 


 

13

(May, 2007)

 

ज़मीन आसमान साथ-साथ नहीं

आग पानी भी साथ-साथ नहीं

साहिल भी नहीं मिलते कभी

शम्स-ओ-क़मर की मुलाकत भी नहीं!

हर शय उस शय से जुदा है,

जिस से उसे इत्तिफ़ाक नहीं!

 

इत्तिफ़ाक़न हम दोनों साथ-साथ है!


zameen aasmaan saath saath nahiiN
aag paanii bhii saath saath nahiiN
saahil bhee naheeN milte kabhee
shams-o-qamar ki mulaakat bhee nahiiN!
har shay us shay se judaa hai,
jis se use ittifaak nahiiN!

ittifaakan ham donoN saath saath hai!!

 


 

12

(April, 2007)

 

वो चाहता है वार ये खाली नहीं जाये,

पर यार से तलवार संभाली नहीं जाये!

 

उस पर से नज़रें जाने क्यों हटती नहीं मेरी,

फ़रमान है "उसपे निगह डाली नहीं जाये"!

 

ग़म यूं लगा के बन गया देखों मेरी आदत,

कुछ देर को भी अब खुशी पाली नहीं जाये!

 

तुम काटना शाखों को संभल के ज़रा प्यारे,

वो घोंसला चिड़िया का, वो डाली नहीं जाये!

 

ये सिलसिला दिन-रात का रुकता नहीं लेकिन,

क्यों ज़िन्दगी की रात ये काली नहीं जाये!


woh chaahtaa hai yaar yeh khaalii nahiiN jaaye,
par yaar se talvaar saMbhaalii nahiiN jaaye!

 

us par se nazreN jaane kyoN haT'tii nahiiN merii, 
farmaan hai :us'pe nigah Daalii nahii jaaye!

 

gham yuN lagaa ke ban gayaa dekho mirii aadat,
kuchh de'r ko bhii ab khushii paalii nahiiN jaaye!
 
tum kaaTanaa shaaKhoN ko saMbhal ke zaraa pyaare,
wo ghoNsalaa chiRiyaa ka,wo Daalii nahiiN jaaye!

 

ye silsilaa din-raat kaa ruktaa nahiiN lekin,
kyo.n zindagii kii raat ye kaalii nahiiN jaaye!

 


 

11

(April, 2007)

 

अजीब दर्ज़ी था!

दाम में एक मुस्कान की अठन्‍नी लेकर

लोगों के ज़ख्म सीता था!

अच्छा खसा कमा भी लेता था

और भीड़ भी हो जाती थी दुकान पर!

मगर कम्बखत कुछ सालों में

महंगाई आसमान छू गई है!

धंधा नहीं चलता बेचारे का!

 

सुई में पिरोने को मुस्कुराहट का धागा

कितना महंगा हो चला है!

और ग्राहक से काम के बदले

दुआ की चवन्‍नी भी नसीब नहीं होती!

 

आज उसी के ज़ख्मों से खून रिस रहा है

और उस पे रफ़ू करने को धागा है

तसल्ली का कपड़ा!

 

पागल था! नेकी करने चला था!

 

 


ajeeb darzee thaa!
 daam meN ek muskaan kii aThannii lekar
logoN ke zakhm seetaa thaa!
achchhaa khasaa kamaa bhee letaa thaa
aur bheeR bhii ho jaatii thii dukaan par!
magar kambakhat kuchh saaloN meN 
mahaNgaayii aasamaan chhuu gayii hai!
dhandhaa nahiiN chalataa bechaare kaa!

 

suii meN pirone ko muskuraahaT kaa dhaagaa
kitnaa mahaNgaa ho chalaa hai!
aur graahak se kaam ke badle 
duaa kii chawannii bhii naseeb nahiiN hotii!

 

aaj usii ke zakhmoN se khoon ris rahaa hai
aur us pe rafoo karane ko nah dhaagaa hai
nah tasallii kaa kapRaa!

 

paagal thaa! nekii karane chalaa thaa!

 


 

10

(April, 2007)

 

कह तो चले थे हम कि तुम से चाहत नहीं

दिल को जाने इक पल भी अब राहत नहीं

 

अपनी ज़बां ही अपने बदन की सौतन बनी,

लाख हुए घायल, कहे "हुए आहत नहीं"!


kah to chale the ham keh tum se chaahat nahiiN
dil ko nah jaane ik pal bhii ab raahat nahiiN!

 

apnii zabaaN hee apane badan kii sautan banee,
laakh hue ghaayal, kahe "hue aahat nahiiN"!

 


 

9

(April, 2007)

 

फिर कुछ बादल नज़र आयें हैं!

कोई तूफ़ान दस्तक दे रहा है!

पिछ्ले महीने की ग़र्मी बहुत कुछ सुखा गई!

ताल-तलैया के मानो चेहरे निकल आये हैं!

लोगों की पथराई आँखों में

आस के पानी की एक बूंद भी अब नज़र नहीं आती!

और ये पेड़ मानों सीने पे कुल्हाड़ी

की आखिरी चोट का इन्तज़ार कर रहें हैं!

और किसी मुर्दे की चिता बनाने को तरस रहे हैं!

हर शक्स पहली फ़ुहार को तरस रहा है जैसे!

 

मगर मुझे सावन दरकार नहीं!

पिछ्ले मौसम में,

मेरा भी बहुत कुछ सूख गया!

दरख्त-ए-याद, नैन तलैया के आंसूं

और जाने क्या क्या!

ग़म की खेती भी बरबाद हो गई!

 

कहीं ऐसा हो कि,

आता सावन

मेरे ज़ख्मों की फ़सल लह-लहा दे!

दिल के सहरा में

फिर किसी याद का बीज़ पनप जाये!

फिर आँखों की वादी से

कोई चश्मा फूट पड़े!

!सावन आये तो अच्छा!


phir kuchh baadal nazar aayeN haiN!

koii toofaan dastak de rahaa hai!
pichhle mahine kii garmii bahut  kuchh sukhaa gayii!
 taal-talaiyaa keh maano chehare nikal aaye haiN!
logoN kee  patharaayii aaNkhoN meN
aas ke paanii kii ik booNd bhii ab nazar nahiiN aatii!
aur yeh peR maano seene pe kulhaaRii
kii aakhirii choT kaa intazaar kar rahe haiN!
aur kisii murde kii chitaa banaane ko taras rahe haiN!
har shaks pahlee phuhaar ko taras rahaa hai jaise!

 

magar mujhe saawan darkaar nahiiN!
pichhle mausam meN,
meraa bhee bahut kuchh sookh gayaa!
darakht e yaado, nain talaiyaa ke aaNsooN 
aur nah jaane kyaa kyaa! 
gham kii khetii bhii barabaad ho gayee!

 

kahiiN aisaa nah ho keh,
aataa saawan  
mere zakhmoN kii fasl lah-lahaa de!
dil ke seharaa meN
phir kisii yaad kaa beez nah panap jaaye!
phir aaNkhoN kii vaadii se
koii chashmaa nah phooT paRe!

!!saawan nah aaye to achchhaa!!

 

 


 

8

(March, 2007)

 

ऐसी हसीं मुलक़ात थी,

कुछ ले गई कुछ दे गई!

तिशना लबों की प्यास थी,

कुछ बुझ गई कुछ रह गई!

 

वो जो हमनफ़स आवारग़ी,

जो गई तो आई सादगी!

इस मनचले भंवरे ने जो,

करी इक कली से दिल्लगी!

 

खुश्बू-ए-गुल मेरी सांस में,

कुछ रच गई कुछ बस गई!

हाये वो लझाना आँखो का,

हाये कंप-कपाना हांथो का!

 

और थरथराते लाला-लब,

तूफ़ां उठाना सांसों का!

अरमानों का दरिया रवां,

कुछ बह गई कुछ सह गई!

 

वो हया का दामन छोड़ के,

सब रस्म-ओ-ताल्लुक तोड़ के!

मेरा हमसफ़र बन चल पड़ी,

साये सी क़ुरबत जोड़ के!

जो लक़ीरे थी मेरे हाथ में,

कुछ मिट गई कुछ खिंच गई!

 

ऐसी हसीं मुलक़ात थी!

कुछ ले गई कुछ दे गई!

 

 


aisii hasee.n mulaqaat thii!
kuchh le gayii kuchh de gayii!
tishanaa laboN kii pyaas thii!
kuchh bujh gayii kuchh reh gayii!

 

wo jo hamanafas aawaaragii!
jo gayii to aayii saadagii!
is manachale bha.Nvare ne jo!
karii ek kalii se dillagii!

 

khushboo-e-gul merii saa.ns me.n!
kuchh rach gayii kuchh bas gayii!
haaye wo laJaanaa aa.nkho kaa!
haaye ka.Np-kapaanaa haa.ntho kaa!

 

aur tharatharaate laalaa-lab!
toofaa.n uThaanaa saa.nso.n kaa!
aramaano kaa dariyaa ravaa.n!
kuchh bah gayii kuchh sah gayii!


wo hayaa kaa daaman chho.D ke!

sab rasme-taalluk to.D ke!
meraa hamasafar ban chal pa.Dii!
saaye sii qurabat jo.D ke! 


jo lakeere thii mere haath me.n!

kuchh miT gayii kuchh khi.nch gayii!
aisii hasee.n mulaqaat thii!
kuchh le gayii kuchh de gayii!


 

7

(March, 2007)

 

वो ही फिर ज़हन में मेरे आना चाहे,

कलम भी वही एक अफ़साना चाहे!

 

जिसे क़त्ल करके दफ़न कर चुका था,

उसी राज़ की जां में जां लाना चाहे!

 

मेरे दिल को आँखों से कैसी है रंजिश,

समंदर में तूफ़ान क्यों लाना चाहे!


wahii phir zahan me.n mere aanaa chaahe!
kalam bhii wahii ek afasaanaa chaahe!

 

jise qatl karake dafan kar chukaa thaa!
usii raaz kii jaa.n me.n jaa.n laanaa chaahe!

 

mere dil ko aa.nkho.n se kaisii hai ra.njish!
samandar me.n toofaan kyoN  laanaa chaahe!

 


 

6

(January, 2007)

 

साकी बस कर अब ज़ाम भर, मदहोश हुआ बेहोश कर,

मयखाना महफ़िल खूब हुआ, अब जाने दे मुझे अपने घर!

 

मैं तन्हा भी हू रात भी है, ना कोई मेरे साथ भी है,

थामे मुझको कोई क्यों कर, खाके ठोकर गिर गया अगर!

 

पीने से क्या ग़म जाता है, क्यों मुझको तू बहलाता है,

यारा ऐसा होता जो अगर, ये दुनिया पीती शाम-ओ-सहर!

 

बादांकश और भी आये है, तु उनको क्यों तरसाये है,

एहसान ज़रा उनपे भी कर, जा उनके खाली जाम तू भर!

 

यारा की मेरे है फ़ितरत, प्याले से उसको है नफ़रत,

वो मेरी खोज में आया गर, ढा देगा मयखाने पे कहर!

 

क्या मेरी सूरत भा ली है, पर ज़ेब तो मेरी खाली है,

ये प्यार जताना बन्द भी कर, तु एक अशरफ़ी का चाकर!

 

कल फ़िर से लुटने आऊंगा, मैं और भी दौलत लाऊंगा,

कुछ वादों पर भी यकीन कर, अब हंसते हंसते रुखसत कर!

 

 


saakii bas kar ab zaam na bhar! madahosh huaa behosh na kar!
mayakhaanaa mahafil khoob huaa! ab jaane de mujhe apane ghar!

 

mai.n tanhaa bhee hoo raat bhee hai! naa koee mere saath bhee hai!
thaame mujhako koee kyo.n kar! khaake Thokar gir gayaa agar!

 

peene se kyaa gam jaataa hai! kyo.n mujhako tu bahalaataa hai!
yaaraa aisaa hotaa jo agar! ye duniyaa.n peetii shaam o sahar!

 

baa.Ndaakash aur bhee aaye hai! tu unako kyo.n tarasaaye hai!
ehsaan zaraa unape bhee kar! jaa unake khaalii zaam tu bhar!

 

yaa.nraa kee mere hai fitarat! pyaale se usako hai nafarat!
wo merii khoj me.n aayaa gar! .Dhaa degaa mayakhaane pe kahar!

 

kyaa.n merii soorat bhaa lee hai! par zeb to merii khaalii hai!
ye pyaar jataanaa band bhee kar! tu ek asharafee kaa chaakar!

 

kal fir se luTane aaoo.Ngaa! mai.n aur bhee daulat laaoo.Ngaa
kuchh waado.n par bhee yakiin kar! ab ha.Nsate ha.Nsate rukhasat kar!

 

 


 

5

(January, 2007)

 

इक अह्‍का लश्कर गया,

इक साल और गुज़र गया!

 

कल गर्दिश-ए-दौरां जो था,

अब याद में है संवर गया!

 

हुई वस्ले-यार-ओ-रक़ीब भी,

कोइ छूटा कोई ठहर गया!

 

था राह में इक काफ़िला,

जाने कहां वो किधर गया!

 

बेहोश था, गुमनाम था,

मयखाने शाम-ओ-सहर गया!

 

मुझे डूबना ही था वहां,

क्यों नरगिसी-दाबर गया!

 

तेरी याद में हमनशीं,

लो बीत ये भी पहर गया!

 

फिर आब-ओ-दाना तलाश लूं,

के टूट अब ये शजर गया!

 

अब के बरस कुछ और हों,

ये साल युं ही गुज़र गया!

 

 


ek ah'd kaa lashakar gayaa!
ek saal aur guzar gayaa!

 

kal gardishee-dauraa.N jo thaa!
ab yaad me.n hai sa.nwar gayaa!

 

huee vasle-yaaro.N-rakeeb bhee!
koi chhooTaa koee Thahar gayaa!

 

thaa raah me.n ek kaafilaa!
jaane kahaa.n wo kidhar gayaa!

 

beho.nsh thaa, gumanaam thaa!
mayakhaane shaamo.n-sahar gayaa!

 

mujhe Doobanaa hee thaa wahaa.N!
kyo.N naragisee-daabar gayaa!

 

teree yaad me.N ai.n hamanashee.n!
lo beet ye bhee pahar gayaa!

 

phir aabo-daanaa talaash lu.N! 
ke TooT ab ye shazar gayaa!

 

abake baras kuchh aur ho!
ye saal yu.n hii guzar gayaa!

 


 

4

(December, 2006)

 

जीत से पहले हार मिले, तो काहे यूं पछ्ताये है,

जितना तीर को पीछे खिंचो, उतना आगे जाये है!

 

इश्क़ में बात समझ की करना, काहे को पग़लाये है,

उलझे धागे को सुलझाना, और उलझता जाये है!

 

कोई गिलास वो रक्खे है ना कोई बोतल लाये है,

नज़रे मिलती जाती है और सर चकराता जाये है!

 

बहलाना है यार को बस कि रात को जी घभराये है,

सच ये है उसके पहलू में रात महक़ती जाये है!

 

 


jeet se pehle haar mile, to kaahe yun pachhtaaye hai!!
jitna teer ko pichhe khincho, utna aage jaaye hai!!

 

ishq mein baat samajh ki karna, kaahe ko paghlaaye hai!
uljhe dhaage ko suljaana, aur ulajhtaa jaaye hai!!

 

koi gilaas wo rakkhe hai na koi botal laaye hai!!
najre milti jaati hai aur sir chakraata jaaye hai!!

 

bahlaana hai yaar ko bas ki raat ko jee ghabhraye hai!!
sach ye hai uske pehlu mein raat mahakti jaaye hai!!

 

 


 

3

(Novemeber, 2006)

 

खमोशी के अल्फ़ाज़ को सुन,

इक प्रेम-गीत है तेरे खतिर!

जो राग बसा है धड़कन में,

बस उसको सुन, सनम काफ़िर!

 

में हाल-ए-दिल तो बयां कर दूं,

इक बात मुझे पर खलती है!

आयत-ए-इश्क़ ज़बां से पढ़ दूं,

ये ज़बां तो जहां को छलती है!

 

दुनिया के शोर शराबे में,

मेरी प्रीत की धुन को जानां!

मैं जनता हूं मुश्किल है बहुत,

खमोश तरानों को सुन पाना!

 

इक चोहदवी रात के ढलते पहर,

किसी ठहरी नदी के पुलिया पर!

हुम बैठे रहे आसमां तले,

दिल में ख्वाबों की शमा जले!

 

तु मेरी आँख में पढ लेना,

जो बात ज़बां पर लाता नहीं!

कहते बने, सहते बने,

अब मुझसे रहा भी जाता नहीं!

 

इकरार पे तेरे सदके है,

ये जान मेरी है तेरे हाज़िर!

खमोशी के अल्फ़ाज़ को सुन,

इक प्रेम गीत है तेरे खतिर!

 

 


khamoshi ke alfaaz ko sun,
ek prem-geet hai tere khatir!
jo raag basa hai dhadkan mein,
bas usko sun! E sanam kaafir!

 

mein haale-dil to bayaa kar do,
ek baat mujhe par khalti hai!
aayat-e-ishq jabaa se padh do,
ye jabaa to jahaa ko chhalti hai!

 

duniya k shor sharaabe mein,
meri preet ki dhun ko E janaa!
mein janta hu mushkil hai bahut,
khamosh taraano ko sun paana!!

 

ek chohdawi raat k dhalte pahar,
kisi thahri nadi k puliyaa par!
hum baithe rahe aasmaa tale,
dil mein khwabo ki shamaa jale!

 

tu meri ankh mein padh lena,
jo baat jabaa par lata nahi!
kahte na bane! sahte na bane,
ab mujhse raha bhi jata nahi!

 

ikraar pe tere sadke hai,
ye jaan meri hai tere haazir!
khamoshi ke alfaaz ko sun,
ek prem geet hai tere khatir!

 

 

 


 

2

(August, 2006)

 

पुरन-मास के चांद को देखन,

एक मास तू छत को गयी!

और पुरन मासी जब आयी तो,

बदरिया चांद छुपा ले गयी!

 

इस बार बसंत भी बीत गया,

बरसात बरस के चली गयी!

क्यों उमरिया अपनी खराब करे,

वो रुत छुटी ये चली गयी!

 

तू आधे चांद को तकती जा,

और ज़रा-ज़रा सी हंसती जा!

छोटी-छोटी खुशियां जी ले,

जो गुज़र गयी सो गुज़र गयी!

 

फिर देख मज़ा तू जीने का,

ये अधर गुलाब से महकेंगे!

ये हुस्न खिलेगा रूप चढेगा,

तेरे नैन क़यामत कर देंगे!

 

 


puran-mas k chand ko dekhan,
ek maas tu chhat ko na gayi!
aur puran maasi jab aayi to,
badaria chand chupa le gayi!

 

Is bar basant bhi beet gaya,
barsaat baras ke chali gayi!
ku umariya apni kharab kare,
wo rut chhuti ye chali gayi!

 

tu aadhe chand ko takti jaa,
aur jhara-jhara si hasti ja!
chhoti chhoti khushiyan jile,
jo gujar gayi so gujar gayi!

 

phir dekh majha tu jeene ka,
ye adhar gulab se mahkenge!
ye husn khilega rup chadega,
tere nain kayamat kar denge!

 

 


 

1

(August, 2006)

 

एक रैत के बंजर सहरा में,

कल रात को फूल खिले देखे!

बादल भी घुमड़ के आये थे,

सावन के झूले लगे देखे!

 

कुछ रेलम पेल के मेले थे,

इक चहल-पहल का आलम था!

कुछ प्रेम-रंग की गुलाल उड़ी,

इक गोरी थी, इक बालम था!

 

अब बात अजब तब लगने लगी,

गोरी के भेस में तू लगने लगी!

अचरज तो अभी कम हुआ था,

वो बालम था कि वो मैं था!

 

जब घड़ी मिलन की आने लगी,

तु नज़र छुपा शर्माने लगी!

तेरे पहलू में जो रात कटी,

हाय कैसी अजब ये बात घटी!

 

 

कुछ ऐसा हसीन वो मंज़र था,

जब नींद खुली सब बंजर था!

वो ख्वाब था मेरा जो टूट गया,

तू तो बरसों पहले ही रूठ गया!

 

जो रूठ गया तो क्यों आता है,

ख्वाबो में जो, यूं सताता है!

चलो आये तो ऐसे ही आना,

कि नींदो में तो मुझे हंसाना!

 

अब तौर-तरीके बदलेंगे हम,

और बिन तेरे भी जी लेंगे हम,

कब तक रात अमावस देखे,

इक चांद गगन पर सी लेंगे हम!

 

 


Ek rait ke banjar sehra mein,
kal raat ko phool khile dekhe!
badal bhi ghumad ke aaye the,
sawan ke jhule lage dekhe!

 

kuch relam pel ke mele the,
ek chahal pahal ka aalam tha!
kuch prem-rang ki gulal udi,
ek gori thi, ek baalam tha!

 

ab baat ajab tab lagne lagi,
gori k bhes mei tu lagne lagi!
achraj to abhi kam hua na tha,
wo baalam tha ki wo mein tha!

 

jab ghadi milan ki aane lagi,
tu najar chhupa sharmane lagi!
tere pehlu mein jo raat kati,
hai kaisi ajab ye baat ghati!

 

kuch aisa haseen wo manjhar tha,
jab neend khuli sab banjhar tha!
wo khwab tha mera jo toot gaya,
tu to barso pehle hi rooth gaya!

 

jo rooth gaya to ku aata hai,
khwabo mein jo, yun satata hai!
chalo aaye to aise hi aana,
ki neendo mein to mujhe hasana!

 

Ab taur tarike badlenge hum,

aur bin tere bhi jilenge hum,
kab tak raat amawas dekhe,
ek chand gagan par seelenge hum!